Wednesday, June 29, 2022

संविधान के खिलाफ बयान देने वाले मोदी के मंत्री का एक और विवादित बयान

- Advertisement -

संविधान के खिलाफ बयान देने वाले मोदी सरकार में कौशल विकास एंव उद्यमिता राज्यमंत्री और बीजेपी सांसद अनंत कुमार हेगड़े एक और विवादित बयान सामने आया है। जिसमे उन्होने कहा कि आपने हमारी पार्टी को वोट किया और आपके पसंद की पार्टी सरकार बनाएगी यह आपका अधिकार है। हम यहां सिर्फ राजनीति करने के लिए हैं। अगर हम यह न करें तो हम क्यों राजनीति में घुसे।

कर्नाटक के करवार जिले में हुई जनसभा में आगे बोलते हुए हेगड़े ने कहा, ‘मैं सांसद राजनीति करके ही बना हूं। नेता राजनीति के अलावा कुछ और नहीं कर सकते, वही हमारा काम है और यही हमारे बस में है। हम यहां समाज सेवा करने के लिए थोड़े आए हैं। हम यहां राजनीति करने के लिए हैं और वही करते हैं और करते रहेंगे। मीडिया मेरी इस बात का चाहे जो मतलब निकालना चाहे निकाल सकती हैं।’

हेगड़े ने इससे पहले संविधान के खिलाफ बयान देकर बड़ा हंगामा खड़ा कर दिया था। उन्होने कहा था, बीजेपी ‘संविधान बदलने के लिए’ सत्ता में आई है।

कोप्पल जिले एक कार्यक्रम के दौरान हेगड़े ने कहा था, ‘लोग धर्मनिरपेक्ष शब्द से इसलिए सहमत हैं, क्योंकि यह संविधान में लिखा है। इसे (संविधान) बहुत पहले बदल दिया जाना चाहिए था और अब हम इसे बदलने जा रहे हैं। जो लोग खुद को धर्मनिरपेक्ष कहते हैं, वे बिना माता-पिता से जन्मे की तरह हैं।’

50 वर्षीय केंद्रीय मंत्री ने कहा था, ‘अगर कोई कहता है कि मैं मुस्लिम, ईसाई, लिंगायत, ब्रह्मण या हिंदू हैं तो मुझे खुशी महसूस होती है, क्योंकि वे अपनी जड़ों को जानते हैं. जो खुद को धर्मनिरपेक्ष कहते हैं, मैं नहीं जानता उन्हें क्या कहा जाए।’

हालांकि अनंत कुमार हेगड़े ने संविधान में संशोधन के अपने विवादित बयान पर लोकसभा के अंदर माफी भी मांगी थी और कहा था कि ‘मैं संविधान, संसद और बाबासाहेब अंबेडकर का सम्मान करता हूं। संविधान मेरे लिए सर्वोच्च है। एक नागरिक के नाते मैं कभी भी इसके खिलाफ नहीं जा सकता।’

- Advertisement -

Hot Topics

Related Articles