amit shah bjp chief 650x400 61492152983

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर कहा कि 2019 का चुनाव कोई सामान्य चुनाव नहीं है। उन्होंने कहा कि यह एक युद्ध है, जो दो विचारधाराओं के बीच लड़ा जाएगा। शाह ने इसे सदियों तक असर डालने वाला युद्ध बताया और कहा कि भाजपा के लिए यह युद्ध जीतना बेहद जरूरी है। उन्होंने भाजपा की राष्ट्रीय परिषद के उद्घाटन भाषण में विपक्षी गठबंधन को भी निशाना बनाया और कहा कि सिर्फ सत्ता के लिए ये पार्टियां साथ आ रही हैं।

Loading...

दिल्ली के रामलीला मैदान से पार्टी के राष्ट्रीय अधिवेशन की शुरूआत करते हुए भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने पानीपत की लड़ाई का जिक्र करते हुए उन्होंने आगाह किया कि उस वक्त मराठा हारे तो फिर दो सौ साल की गुलामी झेलनी पड़ी थी। लिहाजा कमर कस कर मैदान में उतरें।

बता दें कि पानीपत की तीसरी लड़ाई मराठों और अफगानों के बीच हुई थी, जिसके बाद  उत्तर में मराठा शासन का विस्तार काफी समय रूका रहा था। इसे 18वीं सदी का सबसे बड़ा युद्ध माना जाता है। उससे 2019 के चुनाव की तुलना करते हुए शाह ने कहा कि यह चुनाव जीतना बेहद जरूरी है क्योंकि इसका असर सदियों तक रहेगा।

electon

शाह ने कहा- 2019 का चुनाव वैचारिक युद्ध का चुनाव है। दो विचारधाराएं आमने सामने खड़ी हैं। 2019 का युद्ध सदियों तक असर छोड़ने वाला है और इसलिए मैं मानता हूं कि इसे जीतना बहुत महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि एक ओर 1950 से सांस्कृतिक राष्ट्रवाद व गरीब कल्याण की विचारधारा है। नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के दल एकजुट चुनाव के लिए खड़े हैं।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा – दूसरी ओर न कोई नेता है, न नीति है। स्वार्थ व सत्ता के लिए एकत्र लोगों का जमघट है। इन दो विचारधाराओं के बीच युद्ध है। उन्होंने कहा – युद्ध कई प्रकार के होते हैं। कुछ युद्ध जय पराजय तक सीमित होते हैं। कुछ युद्धों का प्रभाव एक आध दशक तक होता है। जबकि कुछ युद्धों का प्रभाव सदियों तक रहता है।

शाह ने कहा – मैं मानता हूं कि 2019 का युद्ध सदियों तक असर डालने वाला है और इसलिए यह युद्ध जीतना जरूरी है। उन्होंने दावा किया कि 70 साल तक जिन वंचितों, गरीबों के लिए कुछ नहीं किया गया, उनके कल्याण के लिए भाजपा ने प्रयास किया है, यह युद्ध उन गरीबों के लिए है।

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें