कृषि कानूनों के विरोध में हरियाणा में किसानों का गुस्सा सातवे आसमान पर है। आए दिन मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के कार्यकर्मों को किसानों की और से निशाना बनाया जा रहा है। ऐसे में अब गृह मंत्री अमित शाह ने किसानों से कृषि कानूनों के समर्थन में ऐसे कार्यक्रमों के आयोजन से बचने को कहा है।

हरियाणा के शिक्षा मंत्री, कंवर पाल गुर्जर ने बुधवार को संवाददाताओं को बताया कि गृह मंत्री ने कहा है कि अगली सूचना तक कार्यक्रम को रोक दिया जाए। अमित शाह कि तरफ से यह सलाह  करनाल के निकट एक गांव में हुए घटना के बाद सामने आया है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को करनाल के निकट एक गांव में एक बैठक रद्द करने के लिए मजबूर होना पड़ा था।

राज्य शिक्षा मंत्री ने कहा कि करनाल में जो कुछ हुआ, उसके बाद गृह मंत्री ने सरकार को सलाह दी है कि वो किसानों के साथ टकराव को ना बढ़ाए। गुर्जर ने कहा, ’किसानों का व्यवहार सही नहीं है। मोबाइल फोन फुटेज में किसानों को मंच पर उत्पात मचाते हुए देखा जा सकता है। किसानों ने पोस्टर और बैनर फाड़ दिए और मंच की कुर्सियों को भी ​​फेंक दिया। मुख्यमंत्री को बिना उतरे वापस जाने के लिए मजबूर होना पड़ा।

इसी बीच अब सीएम खट्टर ने कहा कि अब मामला सुप्रीम कोर्ट में है, इसलिए किसानों को अपना धरना खत्म कर लेना चाहिए। 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस पर किसानों की ट्रैक्टर रैली के आह्वान पर उन्होंने कहा कि यह राष्ट्रीय पर्व है और ऐसे समय पर उन्हें नहीं लगता कि किसान रैली करेंगे।

Loading...
विज्ञापन
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano