भारतीय जनता पार्टी के राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने अपनी पार्टी के आईटी सेल पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा था कि उन्हे फर्जी अकाउंट के जरिये निशाना बनाया जा रहा है। उन्होने अमित मालवीय को पार्टी से निकालने की मांग की थी। हालांकि पार्टी ने उनकी मांग तो नहीं मानी बल्कि अमित मालवीय फिर से आईटी सेल का प्रमुख बना दिया।

सुब्रमण्यम स्वामी ने अपने ट्वीट में लिखा था कि “भाजपा की आईटी सेल दुष्ट हो गई है। इसके कुछ सदस्य फर्जी आईडी से ट्वीट कर मुझ पर निजी हमले कर रहे हैं अगर मेरे नाराज समर्थक भड़क गए और उन्होंने इसके जवाब में निजी हमले शुरू कर दिए तो फिर मैं इसके लिए जिम्मेदार नहीं होऊंगा। जिस तरह से भाजपा को उसकी दुष्ट आईटी सेल के लिए जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता।”

उन्होंने ये भी कहा था कि मालवीय कैरेक्टर ही इस पूरी गंदगी को चला रहा है। हम मर्यादा पुरुषोत्तम राम की पार्टी हैं, रावण या दुशासन की नहीं। एक यूजर ने स्वामी ने ऐसे लोगों और हमलों को इग्नोर करने के लिए कहा। स्वामी ने इसके जवाब में कहा कि मैं इन्हें इग्नोर कर रहा हूं लेकिन बीजेपी को ऐसे लोगों को निकाल देना चाहिए।’

अमित मालवीय की नियुक्ति पर अब उन्होने एक और ट्वीट किया। जिसमे उन्होने लिखा, ‘अब जबकि मालवीय को फिर से नियुक्त किया गया है, मैं यह कहना चाहता हूं – मेरा पहले का ट्वीट यह चेक करने के लिए था कि मालवीया ने फर्जी आईडी ट्वीट्स को खुद से पैसा मुहैया कराया था या नहीं। अब यह स्पष्ट है। पीएमओ के हीरेन जोशी (sic) इसके पीछे थे। मैंने दो सप्ताह पहले पीएम को पत्र लिखा था और दस्तावेजों के साथ उनकी जानकारी में लाया था।’

एक दूसरे ट्वीट में उन्होंने एक ट्विटर यूजर को जवाब दिया है, जिसमें स्वामी ने कहा, ‘मैं पता लगाऊंगा। सीबीआई पीएम को सीधे रिपोर्ट करती है. ईडी एफएम (वित्त मंत्री) को रिपोर्ट करती है। एनसीबी एफएम को रिपोर्ट करती है।’ यह तुरंत स्पष्ट नहीं हुआ था कि इस प्रतिक्रिया के क्या संकेत हैं।

Loading...
विज्ञापन
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano