Monday, May 17, 2021

डॉ. अंबेडकर न होते तो देश में सेक्युलरवाद नहीं होता- ओवैसी

- Advertisement -

भारत को सेक्युलर बनाया अम्बेडकर ने 

फैजाबाद। आल इण्डिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं हैदराबाद के सांसद असदउद्दीन ओवैसी ने कहा कि अगर डॉ. भीमराव अम्बेडकर न होते तो देश में सेक्युलरवाद नहीं होता।

ओवैसी रविवार को जिला मुख्यालय से करीब 32 किलोमीटर दूर बीकापुर विधानसभा उप चुनाव में पार्टी प्रत्याशी प्रदीप कोरी के समर्थन में आयोजित चुनावी सभा को सम्बोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि डॉ. भीमराव अम्बेडकर जैसे नेता अगर न होते तो भारत सेक्युलरवादी नहीं बन पाता। उन्होंने कहा कि अम्बेडकर की देन है कि आज भारत एक सेक्युलर राष्ट्र है। उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी (सपा) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) पर दलितों और मुसलमानों का शोषण करने का आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा कि अब सपा और बसपा का प्रदेश की सत्ता में आना मुश्किल है। दलितों और मुसलमानों का जो विकास करेगा वही यहां राज करेगा।

ओवैसी ने कहा कि वैसे तो पूरे देश में दलित और मुसलमानों का शोषण हुआ है और हम चाहते हैं कि इस देश में जब तक दलित प्रधानमंत्री नहीं होगा तब तक देश का विकास नहीं हो सकता। उन्होंने कहा कि सपा और भाजपा अपना नाटक बंद करें क्योंकि सपा ने अपना एजेंडा अभी तक पूरा नहीं किया। उन्होंने केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि हिन्दुस्तान की सियासत करोड़पतियों और उद्योगपतियों के हाथ में आ गई है।

अगले पेज पर देखे विडियो 

देखिये video 

केन्द्र की सत्तारूढ़ सरकार जनता के लिए कुछ नहीं कर रही है। उनके नेता बयान देकर समाज का माहौल खराब करने का प्रयास करते हैं लेकिन प्रधानमंत्री अपने नेताओं को कुछ नहीं कह रहे हैं।

ओवैसी ने कहा कि प्रदेश में किसान, दलित भूख से मर रहा है और समाजवादी पार्टी के लोग अपने नेता के जन्मदिन पर करोड़ों रूपया खर्च कर गरीबों का मजाक उड़ा रहे हैं। उन्होंने साफ कहा कि लोहिया का नाम लेने वाले आज ओवैसी से डर रहे हैं। मैं उन लोगों को चैन से नहीं बैठने दूंगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles