हिन्दू युवा वाहिनी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और हिन्दू युवा वाहिनी भारत के अध्यक्ष सुनील सिंह बड़ी संख्या में अपने समर्थकों के साथ समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए है। उन्हे कट्टर मुस्लिम विरोधी के तौर पर जाना जाता है है। मुस्लिमों के खिलाफ विवादास्पद बयानों को लेकर वह अक्सर चर्चा में रहे है।

सुनील वर्मा ने सुनील सिंह और उनके साथियों के एसपी में शामिल होने पर उनका स्वागत किया और कहा कि विरोध करने पर योगी सरकार ने इन लोगों पर न जाने कितने मुकदमे लाद दिए हैं। अखिलेश यादव ने आरोप लगाते हुए कहा, ”यह सरकार पहले ही दिन से अन्याय कर रही है। विरोध करने वालों पर झूठे मुकदमे दर्ज किए जा रहे हैं। अब तो मुख्यमंत्री के पास समय भी नहीं बचा है। अब उनकी उल्टी गिनती शुरू हो चुकी है।” एसपी अध्यक्ष ने कहा, ”हमें इस बात की खुशी है कि योगी आदित्यनाथ की सरपरस्ती वाली हिंदू युवा वाहिनी के लोग हमारे साथ आ गए हैं।”

वहीं सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने कहा ये नौजवानों की भीड़ ही सपा का भविष्य है। मुलायम सिंह यादव ने कहा कि हमारी पार्टी तो नौजवानों की पार्टी है। अब युवा नेता जनता को पार्टी की विचारधारा बताएं। नौजवानों का मैं स्वागत करता हूं, अब तो पार्टी नौजवानों के हाथों में होगी। नौजवान ही सपा का भविष्य है। समाजवादी पार्टी की सात क्रांति तो जन-जन तक जानी चाहिए। हमने कभी भी देश तथा प्रदेश में भेदभाव की राजनीति नहीं की। कभी की काले-गोरे का भेद नहीं किया।

बता दें कि हिंदू युवा वाहिनी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सुनील सिंह पर 70 से अधिक मुकदमे दर्ज हैं। पंचरूखिया कांड, मोहन मुंडेरा कांड, मऊ दंगा सहित कई घटनाओं के बाद संघटन का कद बढ़ता गया। बाद में बगावत कर के सुनील सिंह ने हिंदू युवा वाहिनी (भारत) का गठन कर लिया। गोरखपुर में थाने में तोड़-फोड़ समेत अन्य मामलों में सुनील को 2018 में जेल भेजा गया और बाद में एनएसए भी लगा।

2019 के लोकसभा चुनाव में गोरखपुर से पर्चा भरा लेकिन उसे खारिज कर दिया गया। सुनील सिंह का कहना है कि प्रदेश सरकार ने तीन वर्ष में विकास के नाम पर केवल शिगूफा दिया है। अखिलेश यादव में युवा उम्मीद देख रहे हैं, इसी कारण आज से समाजवादी पार्टी में शामिल होने का फैसला किया है।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन