बस्ती | देश के सबसे बड़े सूबे उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनावो का शोर मचा हुआ है. यहाँ पहले चरण का मतदान संपन्न हो चूका है जबकि दुसरे चरण के लिए कल मतदान होना है. सभी पार्टिया अपने अपने उम्मीदवार को जीताने के लिए एडी चोटी का जोर लगा रहे है. इस दौरान वो कब मर्यादा की सीमा लाँघ जाते है, यह शायद उन्हें भी पता नही चलता. या फिर वो जानबूझकर इस तरह के बयान देते है. शायद उन्हें लगता है की इससे ही सुर्खियों में आ जायेंगे.

माना की विपक्षी दलों और उनके नेताओं के खिलाफ जहर उगला जा सकता है और यह लगभग हम हर चुनावो में देखते भी आ रहे है लेकिन अपनी ही सहयोगी पार्टी के खिलाफ कोई मर्यादा लांघ जाये यह आज तक किसी चुनाव में नही हुआ. ऐसा ही किया है अखिलेश सरकार में मंत्री रहे राम करन आर्या ने. उन्होंने एक जनसभा को संबोधित करते हुए बीजेपी को राक्षस बताया तो कांग्रेस को भी शैतान की संज्ञा दे डाली.

एक तरफ जहाँ अखिलेश यादव राहुल गाँधी के साथ मिलकर गली गली , शहर शहर घूमकर वोट मांग रहे है वही उनके ही मंत्री कांग्रेस के खिलाफ जहर उगलकर पार्टी और अखिलेश दोनों के लिए परेशानी का सबब बन रहे है. उनके बयान के बाद राजनितिक सरगर्मिया तेज हो सकती है और कांग्रेस के अन्दर भी इस तरह के बयानों से असंतोष पनप सकता है जो गठबंधन के लिए ठीक नही माना जायेगा.

बस्ती की महादेव सुरक्षित सीट से समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी और सरकार में आबकारी और खेल राज्यमंत्री राम करन आर्या ने बस्ती की एक रैली को संबोधित करते हुए कहा की हम बिना कांग्रेस के भी सरकार बनाने में सक्षम है लेकिन बीजेपी जैसे बड़े राक्षस को हराने के लिए छोटे छोटे शैतानो को साथ मिलाना पड़ता है, क्योकि अगर यह राक्षस सत्ता में आया तो प्रदेश और राज्य में खूनखराबा कर देगा.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें