एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी के भाई अकबरुद्दीन ओवैसी ने एक बार फिर से तीखी जुबान में देश में हो रहे मुस्लिमों पर अत्यचार को लेकर अपनी आवाज बुलंद की है.

उन्होंने देश की संसद और विधानसभाओ को निशाना बनाते हुए कहा कि देश की संसद और विधानसभा में मुसलमानों के खिलाफ कानून बनाए जा रहे है. उन्होंने अखलाक, नोमान, जुनैद सहित मुस्लिमों की हत्या का मुद्दा उठाते हुए कहा कि आज देश के क्या हालात हैं?

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

उन्होंने सवाल उठाते हुए कहा कि मैं पूछना चाहता हूं सेक्युलर लोग कहां हैं? देश में आए दिन मुस्लमानों की हत्याएं हो रही हैं. अखलाक़ मारा गया, जुनैद मारा गया, उत्तराखंड में लड़की पर तेज़ाब फेंक दिया क्योंकि वो मुसलमान थे. क्या सिर पर टोपी पहनना गुनाह है, क्या दाढ़ी रखना गुनाह है, क्या मुसलमान होना गुनाह है.

ओवैसी ने आगे कहा, ”मेरे प्यारे मुसलमानों समझो, मुल्क किधर जा रहा है ? अगर आज भी हम एक नहीं होंगे तो कैसे होगा, हम बार बार कहते रहे इत्तेहाद (गठबंधन) इत्तेहाद, इत्तेहाद क्यों कहते हैं? इसलिए कहते हैं क्योंकि मुसलमानों की तबाही और बर्बादी के कानून, बाजारों चौराहो या मैदानों में नहीं बनते, ये संसद या असेंबली में बनते हैं. अरे अगर मुसलमान एक हो जाएं तो मैं जानता हूं कि किसी की मदद किसी के करम की जरूरत नहीं है. हमारा भाई खुद अपने भाइयों के वोट से 50 लोकसभा सीटें जीत सकता है.

उन्होंने कहा कि विश्व हिंदू परिषद वालों, आरएसएस वालों, नरेंद्र मोदी सुन लो ये मुल्क किसी एक का नहीं. ये जितना तेरा है उतना मेरा भी है.

Loading...