Thursday, August 5, 2021

 

 

 

लोकसभा चुनाव जीतने की खातिर बालाकोट में करवाया गया हवाई हमला: फारूक अब्दुल्ला

- Advertisement -
- Advertisement -

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव के साथ जम्मू-कश्मीर में विधानसभा चुनाव नहीं कराए जाने से नाराज नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता फारूक अब्दुल्ला ने भाजपा नीत केंद्र सरकार के खिलाफ सोमवार को गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि उसने लोकसभा चुनाव जीतने के ‘‘एकमात्र उद्देश्य’’ के साथ पाकिस्तान के बालाकोट में हवाई हमले के आदेश दिए।

उन्होने कहा, जम्मू-कश्मीर में लोकसभा चुनावों के लिए व्यवस्थाएं और माहौल अनुकूल है, लेकिन फिर भी राज्य में भी विधानसभा चुनाव नहीं हैं? स्थानीय निकाय चुनाव शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हुए, पर्याप्त बल मौजूद हैं, फिर राज्य चुनाव क्यों नहीं हो सकते? फारूक ने कहा कि “हम हमेशा से जानते थे कि पाकिस्तान के साथ लड़ाई या झड़प होगी। यह सर्जिकल स्ट्राइक (हवाई हमला) इसलिए किया गया क्योंकि चुनाव नजदीक आ रहे हैं। हमने करोड़ों का एक विमान खोया। शुक्र है कि पायलट (IAF) बच गया और सम्मान के साथ पाकिस्तान से लौटा।”

अब्दुल्ला ने कहा, ‘‘संसद में हमें पता है कि वे सभी दूसरे मोर्चों पर विफल हो गए और कश्मीर में पाकिस्तान के साथ लड़ाई या टकराव होगा ताकि वह एक तरह का ‘अवतार’ बन जाए जिनके बिना भारत चल ही नहीं सकता। लेकिन मैं उन्हें बताना चाहता हूं वह या मैं रहे या ना रहे, भारत जिंदा रहेगा और आगे बढ़ता रहेगा।’’ नेकां अध्यक्ष ने कहा कि चुनावों में भाजपा को मदद देने के लिए डर का माहौल बनाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान से बातचीत करने के अलावा कोई दूसरा तरीका नहीं है।

उन्होंने कहा, ‘‘वे (नयी दिल्ली) इस कश्मीर मुद्दे को अंतरराष्ट्रीय सुर्खियों में लाए। अब कई देश भारत और पाकिस्तान को कश्मीर पर बातचीत करने के लिए राजी करने में शमिल हैं और वे अपने आप को इसमें शामिल रखेंगे क्योंकि यह आगे बढ़ने का एकमात्र रास्ता है।’’ राज्य में विधानसभा चुनाव में देरी के भारत के निर्वाचन आयोग के फैसले के बारे में पूछे जाने पर अब्दुल्ला ने कहा कि उन्हें जम्मू कश्मीर में केंद्र द्वारा ‘‘उपद्रव’’ की आशंका है।

उन्होंने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि उन्होंने कोई शैतानी करने की सोची होगी इसलिए चुनाव टल गए। मुझे समझ नहीं आता कि जब हजारों लोगों ने पंचायत और नगर निगम चुनावों में भाग लिया तो उन्हें अब क्या खतरा लगता है जब बड़ी संख्या में सुरक्षाबल मौजूद हैं और वे राज्य के हर नुक्कड़ और कोने में मौजूद हैं।’’ अब्दुल्ला ने कहा कि सभी दल लोकसभा और विधानसभा चुनाव एक साथ कराए जाने के पक्ष में है और अब जनता को समझना चाहिए कि उनका मकसद क्या है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles