बिहार विधान सभा चुनावों में मिली कामयाबी के बाद असदुद्दीन ओवैसी अपनी पार्टी ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) का विस्तार पूरे देश में करने में जुटे है। अब उन्होने गुजरात में भारतीय ट्राइबल पार्टी (बीटीपी) से गठजोड़ कर स्थानीय निकायों चुनाव लड़ने का फैसला किया है।

महाराष्ट्र के औरंगाबाद से एआईएमआईएम सांसद इम्तियाज जलील ने जानकारी देते हुए कहा कि ‘हमारी योजना बीटीपी के साथ गठजोड़ कर स्थानीय निकाय चुनाव लड़ने की है। गुजरात में अभी हमारी कोई प्रदेश शाखा नहीं है, लेकिन अहमदाबाद और भरूच जैसी जगहों पर एआइएमआइएम के समर्थक काम कर रहे हैं। बीटीपी से बातचीत के लिए मैं अगले महीने के पहले सप्ताह में गुजरात जा रहा हूं। उसके बाद पार्टी अध्यक्ष को रिपोर्ट सौंपूंगा।’

बता दें कि 182 सदस्यीय गुजरात विधानसभा में बीटीपी के दो विधायक है। हाल ही में राजस्थान के आदिवासी बहुल उदयपुर संभाग के डूंगरपुर जिले में भारतीय ट्राइबल पार्टी (बीटीपी) को रोकने के लिए कांग्रेस द्वारा बीजेपी को समर्थन देने पर भारतीय ट्राइबल पार्टी (BTP) ने गहलोत सरकार से अपना समर्थन वापस ले लिया। जिसके बाद असदुद्दीन ओवैसी ने भारतीय ट्राइबल पार्टी को समर्थन देने का प्रस्ताव दिया था। जिसे के राष्ट्रीय अध्यक्ष छोटूभाई वासवा ने स्वीकार भी कर लिया।

बीटीपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष छोटूभाई वासवा ने बीजेपी-कांग्रेस के गठजोड़ को लेकर गुस्सा जाहीर करते हुए एक ट्वीट किया। जिसमे उन्होंने लिखा, बीजेपी और कांग्रेस एक है। यही सत्य है गंगाधर ही शक्तिमान है। जिस पर ओवैसी ने लिखा, कांग्रेस मुझे और आप को दिन रात विपक्षी एकता का पाठ पढ़ाती है। लेकिन खुद जनेऊदारी एकता से ऊपर नहीं उठ पा रही है। ये दोनों एक ही लोग हैं। आप कब तक ऐसे लोगों के साथ रहेंगे। क्या आपकी राजनीतिक हैसियत इतनी कम है कि आप राज्य में किंगमेकर बन सकें। उम्मीद है कि आप इसपर जल्द ही सही फैसला लेंगे। हिस्सेदारी के इस संघर्ष में हम आपके साथ हैं। जवाब में वासवा ने भी कहा, हम भी आपके साथ है।

 

Loading...
विज्ञापन
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano