वैसे तो मोदी लहर में इस बार भी सभी पार्टियाँ बह गयी उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश की जीत ने बाकी प्रदेशों की हार पर पर्दा डाल दिया, लेकिन कुछ सीटें बीजेपी ऐसी भी जीती है की अगर वहां aimim का कैंडिडेट चुनाव नही लड़ता तो बीजेपी को ज़रूर कुछ सीटों का नुक्सान होता, हालाँकि यह नुकसान इतना कम होता की बीजेपी के बहुमत पर तब भी कोई फर्क नही पड़ता.

पहले बात करते है टांडा विधानसभा की जहाँ से संजू देवी ने बीजेपी के लिए सीट निकाली है, मात्र 1725 वोटों के संजू देवी ने समाजवादी पार्टी के अजीमुल हक पहलवान को पटखनी दी तथा तीसरे नंबर पर बसपा के मनोज कुमार रहे है, इस विधानसभा क्षेत्र में ध्यान देने योग्य बात यह रही की इसमें चौथे नंबर पर ओवैसी की पार्टी मीम आई जिसे मात्र 2070 वोट मिले लेकिन अगर यह वोट समाजवादी के खाते में चले जाते तो इस सीट का नज़ारा बदल सकता था.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

वहीँ मात्र 445 वोटो से समाजवादी पार्टी की एक और सीट निकलते निकलते रह गयी श्रावस्ती में राम फेरन ने सपा के मोहम्मद रमजान को पछाड़ा, जिसमे 2933 वोट लाकर aimim ने पांचवा स्थान ग्रहण किया .. मात्र चाँद वोटो की हार में 2933 वोटो की अहमियत बहुत हो सकती थी.

गैन्सारी की कायाकल्प हो सकती थी अगर aimim को ना मिलते वोट

कांठ में भी कुछ ऐसा ही रहा जहाँ फिर से aimim वोट काटू पार्टी के तौर पर उभर कर सामने आई

Loading...