Sunday, January 23, 2022

AIMIM और MNS ने नहीं दिया कांग्रेस-एनसीपी और शिवसेना का बहुमत परीक्षण में साथ

- Advertisement -

महाराष्ट्र विधानसभा में शनिवार को हुए फ्लोर टेस्ट में शिवसेना ने आसानी से बहुमत साबित कर दिया। पार्टी को बहुमत के लिए 145 वोट चाहिए थे जो उसने आसानी से हासिल कर लिए। शिवसेना के पक्ष में कुल 169 वोट पड़े। जबकि विपक्ष में चार वोट पड़े। चार वोट तटस्थ रहे।

तटस्थ रहने वालों में उद्धव ठाकरे के चचेरे भाई राज ठाकरे की पार्टी महाराष्ट्र नव निर्माण सेना (एमएनएस) के एक विधायक, हैदराबाद सांसद असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी AIMIM के दो विधायक और सीपीआई के एक विधायक शामिल रहे।

गौरतलब है कि राज उद्धव के शपथग्रहण समारोह में भी शामिल हुए थे। जब तमाम तल्खियां भुलाकर राज ठाकरे राजनीतिक मंच का हिस्सा बने तो उनका जोरदार स्वागत हुआ था। इसके बाद से सबकी नजरें इस बात पर टिकी थीं कि एमएनएस का वोट किसको जाएगा।

इस दौरान बीजेपी के नेता देवेंद्र फडणवीस ने उद्धव सरकार पर असंवैधानिक कार्य करने का आरोप लगाया और कहा कि बहुमत परीक्षण से पहले प्रोटेम स्पीकर को क्यों बदला गया? इसके अलावा बीजेपी ने पूछा कि विधानसभा की कार्यवाही शुरू होने से पहले राष्ट्रीय गीत क्यों नहीं बजाया गया?

फडणवीस ने कहा कि सरकार को फ्लोर टेस्ट के लिए 1 बजे का वक्त दिया गया था जबकि, फ्लोर टेस्ट 2 बजे होना था। ऐसे में सभी विधायक वक्त पर नहीं पहुंच सके। ऐसा क्यों? बीजेपी ने शुक्रवार को उद्धव ठाकरे सरकार के  शपथ ग्रहण को भी असंवैधानिक करार दिया है। बीजेपी नेता ने इसके खिलाफ कोर्ट जाने की भी बात कही है।

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles