नई दिल्ली | उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में बीजेपी को प्रचंड बहुमत मिलने की वजह से ज्यादतर विपक्षी दलों ने ईवीएम् मशीन पर संदेह जताया है. बसपा सुप्रीमो मायावती के बाद कांग्रेस और अब आम आदमी पार्टी ने ईवीएम् मशीन में गड़बड़ी का अंदेशा जताते हुए मांग की है की दिल्ली में होने नगर निगम चुनावो को ईवीएम् की जगह बैलेट पेपर से कराया जाए.

आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता संजय सिंह ने कहा है की अगर उत्तर प्रदेश के नगर निगम और नगर पंचायतो के चुनाव बैलेट पेपर से कराये जा सकते है तो दिल्ली नगर निगम के चुनाव भी कराये जा सकते है. संजय सिंह ने आगे कहा की पंजाब इलेक्शन में प्रचंड जीत दर्ज करने वाली कांग्रेस भी ईवीएम् मशीन पर संदेह जता चुकी है. बसपा ने सबसे पहले इसकी मांग की है.

संजय सिंह ने बीजेपी को भी ईवीएम् मशीन के खिलाफ बताते हुए कहा की जब बीजेपी विपक्ष में थी तब वह भी ईवीएम् मशीन पर सवाल उठाती थी. ऐसे में बैलेट पेपर से चुनाव कराने में कोई हर्ज नही है. मालूम हो की अप्रैल मई में दिल्ली एमसीडी के चुनाव होने है. इनको संपन्न कराने की जिम्मेदारी दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल पर है. इसलिए संभव है की केजरीवाल बैलेट पेपर से चुनाव कराने की मंजूरी दे दे.

इससे पहले दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष अजय माकन ने भी एमसीडी चुनाव बैलेट पेपर से कराने की मांग की. उन्होंने केजरीवाल को ट्वीट करते हुए लिखा की बहुत से ईवीएम् मशीन पर शक जाहिर कर चुके है. मैं चाहता हूँ की अरविन्द केजरीवाल एमसीडी इलेक्शन बैलेट पेपर के जरिये कराये. गौरतलब है की उत्तर प्रदेश में बसपा को केवल 19 सीटे मिलने पर हिराने जताते हुए मायावती ने चुनाव आयोग से मांग की थी की ईवीएम् मशीन में गड़बड़ी की वजह से बीजेपी को जीत मिली है इसलिए ये परिणाम ख़ारिज कर बैलेट पेपर से दोबारा चुनाव कराये जाये.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?