Sunday, September 19, 2021

 

 

 

2019 अकेले लड़ेगी आम आदमी पार्टी, बनेगी बीजेपी की मददगार?

- Advertisement -
- Advertisement -

दिल्ली की सत्ताधारी आम आदमी पार्टी (आप) पर धर्मनिरपेक्ष वोटों को काटने और बीजेपी के मदद करने के आरोप लगते आए है। एक बार फिर से पार्टी पर उंगलिया उठ रही है। दरअसल, आम आदमी पार्टी 2019 का लोकसभा चुनाव अकेले ही लड़ने जा रही है।

आम आदमी पार्टी ने चार राज्यों और एक केंद्र शासित प्रदेश की कुल 33 लोकसभा सीटों पर उम्मीदवार उतारने का फैसला किया है। आप दिल्ली की सात, पंजाब की तेरह, हरियाणा की दस, गोवा की दो और चंडीगढ़ की एक (कुल 33) लोक सभा सीट पर चुनाव लड़ेगी। पार्टी ने राष्ट्रीय परिषद की बैठक में निर्णय लिया है कि 33 लोकसभा सीटों पर ही फोकस रखा जाए।

modi and amit shah

पार्टी के राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने एबीपी न्यूज से कहा कि उनकी पार्टी किसी भी दल के साथ गठबंधन नहीं करेगी। सिंह ने कहा कि उनकी पार्टी किसी भी गठबंधन का हिस्सा नहीं है लेकिन भाजपा को रोकने के लिए बन रहे गठबंधन का वह स्वागत करते हैं।

संजय सिंह ने कहा कि चंद्रबाबू नायडू और शरद यादव के साथ अरविंद केजरीवाल की मुलाकात किसानों के मुद्दे, सीबीआई, आरबीआई के मुद्दे पर आधारित थी। इससे महागठबंधन में शामिल होने की अटकलें मीडिया ने लगाई थी।

ध्यान रहे आम आदमी पार्टी ने पंजाब की 13 लोक सभा सीटों में से पांच पर अपने उम्मीदवार घोषित कर दिए हैं. जबकि दिल्ली में कुल सात में से पांच सीटों पर पहले ही प्रभारी घोषित हो चुके हैं। जो कि संभावित उम्मीदवार माने जा रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles