लखनऊ | बिहार में बीजेपी के साथ मिलकर सरकार बनाने के बाद से ही जदयू में सब कुछ ठीक नही चल रहा है. पार्टी दो धडो में बंटती दिख रही है. एक खेमा मुख्यमंत्री नितीश कुमार के साथ है तो दूसरा पार्टी के पूर्व अध्यक्ष शरद यादव के साथ. फ़िलहाल हालात ऐसे है की दोनों ही नेता एक दुसरे के खिलाफ खुलकर आ गये है. पहले शरद यादव ने नितीश के फैसले की आलोचना करते हुए कहा की वो अभी भी महागठबंधन के साथ है, जबकि नितीश ने जवाब देते हुए कहा की वो अपना रास्ता चुनने के लिए स्वतंत्र है.

फ़िलहाल माना जा रहा है की जदयू की बिहार इकाई के अलावा देश की ज्यादातर इकाई शरद यादव के साथ है और बागी तेवर अपनाए हुए है. सोमवार को गुजरात इकाई के अध्यक्ष और पार्टी के राष्ट्रिय महासचिव अरुण कुमार श्रीवास्तव ने दावा किया की बिहार में भी शरद यादव के साथ 20 विधायक है. अरुण का दावा है की वो कभी भी इस्तीफा देकर नितीश कुमार की सरकार गिरा सकते है. इसके अलावा शरद ने 17 अगस्त को सभी गैर बीजेपी दलों की एक बैठक भी बुलाई है.

सोमवार को लखनऊ पहुंचे अरुण कुमार ने प्रेस क्लब में पत्रकारों से बात की. उन्होंने बिहार की राजनीती पर अपना रुख स्पष्ट करते हुए कहा की पार्टी के 20 विधायक शरद यादव के साथ है. इस्तीफा देने के सवाल पर उन्होंने कहा की अभी इस्तीफा दे देंगे तो नितीश कुमार को फायदा हो जायेगा इसलिए समय आने पर इस्तीफा देंगे और नितीश सरकार को गिरा देंगे. इसके लिए 17 अगस्त को एक बैठक भी आहूत की गयी है. इस बैठक में कांग्रेस, राजद, सपा, बसपा , टीएमसी, सीपीएम के प्रतिनिधि हिस्सा लेंगे.

अरुण कुमार ने बताया की यह बैठक दिल्ली के बिट्ठल भाई पटेल सभागार में साक्षी विरासत संस्था के बैनर तले आयोजित होगी. इस बैठक में जेडीयु के सभी असंतुष्ट नेता भी हिस्सा लेंगे. माना जा रहा है की शरद यादव इस बैठक के जरिये नितीश को अपनी ताकत का अहसास कराना चाहते है. उम्मीद है की इस बैठक के बाद कोई बड़ा फैसला लिए जाएगा. अरुण ने यह भी बताया की शरद , 27 तारीख को पटना में होने वाली लालू प्रसाद यादव की रैली में भी हिस्सा लेंगे.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?