नई दिल्ली: पेट्रोल-डीजल के दाम में लगातार बढ़ोतरी पर नरेंद्र मोदी सरकार को घेरने में लगी कांग्रेस को ‘भारत बंद’ के लिए 18 पार्टियां का समर्थन हासिल हुआ है। बता दें कि कांग्रेस ने 10 सितंबर को भारत बंद बुलाया है।

कांग्रेस की ओर से आहूत ‘भारत बंद’ को विपक्ष की कुल 18 छोटी-बड़ी पार्टियों का समर्थन मिला है। पार्टी सूत्रों का कहना है कि ‘भारत बंद’ के लिए समाजवादी पार्टी (सपा), बहुजन समाज पार्टी (बसपा), राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा), द्रमुक, तृणमूल कांग्रेस, राष्ट्रीय जनता दल (राजद), मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा), भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा), जनता दल एस (जदएस), राष्ट्रीय लोक दल (रालोद), झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) और कई अन्य दल समर्थन कर रहे हैं।

पार्टी के संगठन महासचिव अशोक गहलोत ने संवाददाताओं से कहा, ‘आज देश का कोई वर्ग खुश नहीं है। मंहगाई की मार ने सबकी कमर तोड़ दी है। पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दाम से सब परेशान हैं। हिंसा का माहौल भी है। हर कोई परेशान है। उन्होंने कहा, आज की बैठक में यह तय किया कि 10 सितंबर को भारत बंद होगा। यह सुबह नौ बजे से दिन में तीन बजे तक होगा ताकि जनता को दिक्कत नहीं हो। इसमें दूसरे विपक्षी दल भी साथ होंगे।’

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

वहीं रणदीप सुरजेवाला ने आरोप लगाया कि मोदी सरकार ने पिछले साढ़े चार वर्षों में पेट्रोल-डीजल पर कर के जरिए 11 लाख करोड़ रुपये की ‘लूट’ की है। उन्होंने कहा कि ‘भारत बंद’ का आह्वान किया गया ताकि सरकार पर पेट्रोल-डीजल के दाम कम करने और इन दोनों पेट्रोलियम उत्पादों को जीएसटी के दायरे में लाने के लिए दबाव बनाया जा सके।

इसके अलावा अहमद पटेल ने कहा, ‘ज्यादातर विपक्षी पार्टियों से हमारी बात हुई है। ज्यादातर ने समर्थन किया है। तृणमूल कांग्रेस ने समर्थन की बात की है, लेकिन वह बंद में शामिल नहीं होगी। बसपा से अभी बात नहीं हुई है।’

Loading...