Sunday, October 17, 2021

 

 

 

तेलंगाना में कांग्रेस को बड़ा झटका – टीआरएस में शामिल होंगे 12 विधायक, स्पीकर को दी अर्जी

- Advertisement -
- Advertisement -

तेलंगाना में कांग्रेस की हालत बदतर होती जा रही है। दरअसल गुरुवार को राज्य के 18 में से 12 विधायक पार्टी छोड़ सत्तारूढ़ तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) में शामिल हो गए। इन विधायक ने विधानसभा स्पीकर पी.श्रीनिवास रेड्डी से भेंटकर टीआरएस के साथ कांग्रेस विधायक दल के विलय को लेकर उन्हें अर्जी दी।

इसपर तेलंगाना के कांग्रेस अध्‍यक्ष एन उत्‍तम कुमार रेड्डी ने कहा, ‘कांग्रेस लोकतांत्रिक तरीके से इससे निबटेगी, हम सुबह से स्‍पीकर की तलाश कर रहे हैं, वह लापता हैं, उन्‍हें खोजने में हमारी मदद करें।’ बता दें कि लोकसभा चुनाव में यहां की चार सीटों पर भाजपा ने जीत दर्ज की वहीं तीन सीटों को कांग्रेस ने अपने नाम कर लिया। इसके बाद टीआरएस मात्र 9 सीटों पर सिमट कर रह गई।

वहीं कांग्रेस विधायक रोहित रेड्डी ने टीआरएस के कार्यकारी अध्‍यक्ष व मुख्‍यमंत्री चंद्रशेखर राव के बेटे केटी रामा राव से मुलाकात की और टीआरएस का हाथ थामने की बात कही। खबरें हैं कि रोहित रेड्डी भी पार्टी से इस्तीफा देकर टीआरएस में शामिल हो सकते हैं। टीआरएस से सस्पेंड होने के बाद रेड्डी कांग्रेस में पहुंचे थे।

कांग्रेस के वरिष्ठ विधायक जी वेंकट रमन रेड्डी के हवाले से ‘पीटीआई-भाषा’ की रिपोर्ट में बताया गया कि 12 विधायकों ने राज्य के विकास के लिए मुख्यमंत्री के साथ मिलकर काम करने का फैसला किया है। रेड्डी के मुताबिक, उन्होंने विधानसभा अध्यक्ष को एक प्रतिवेदन देकर टीआरएस में विलय का अनुरोध किया है।

बकौल रेड्डी, ‘‘कांग्रेस विधायक दल की हमारी एक विशेष बैठक हुई। इसके 12 सदस्यों ने मुख्यमंत्री केसीआर के नेतृत्व को समर्थन दिया और वे उनके साथ काम करना चाहते हैं। हमने अध्यक्ष को प्रतिवेदन दिया और उनसे टीआरएस के साथ हमारे विलय का अनुरोध किया।’’

उधर, तेलंगाना कांग्रेस अध्यक्ष एन.उत्तम कुमार रेड्डी ने मीडिया से कहा- हम लोकतांत्रिक तरीके से लड़ेंगे। हम सुबह से स्पीकर को खोज रहे हैं, पर वह हमें मिले ही नहीं। आप लोग भी उन्हें ढूंढने में हमारी मदद करें।

अधिकारियों ने बताया कि 12 विधायक कांग्रेस विधायक दल की संख्या का दो तिहाई है यानी उन पर दलबदल विरोधी कानून के प्रावधान लागू नहीं होंगे। अगर अध्यक्ष उनकी अर्जी स्वीकार कर लेते हैं, तब कांग्रेस विपक्षी दल का दर्जा खो सकती है क्योंकि उसकी संख्या केवल छह रह जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles