महंत नृत्यगोपाल दास जी के जन्‍मदिन पर सोमवार को अयोध्या पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राम मंदिर निर्माण पर कहा कि संतों को इस मुद्दे पर कुछ समय और धैर्य रखने की जरूरत है।

उन्होंने कहा कि राम मंदिर का मामला समाधान की तरफ जा रहा है। संवैधानिक दायरे के अंदर रहकर काम करना है, इसलिए धैर्य जरूरी है। योगी ने कहा कि कांग्रेस 2019 के बाद राम मंदिर पर सुनवाई की साजिश रच रही है।

योगी ने कहा, हम दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र में निवास करते हैं। यहां न्यायपालिका की अपनी भूमिका है। हमें उसकी मार्यादा को ध्यान में रखना होगा। उन्होंने कहा कि संतों की भावना देश के बहुसंख्य लोगों की भी भावना है। इसका समाधान जरूर आएगा, लेकिन उसके लिए सामाजिक तनाव को बढ़ाने के बजाए खत्म करने की जरूर है।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

विपक्ष पर हमला बोलते हुए सीएम ने कहा कि आज राम जन्मभूमि की बात वह लोग कर रहे हैं, जिन्होंने राम भक्तों पर गोलियां चलवायीं थी। भगवान राम की जन्म भूमि की पिछली सरकारों में जो उपेक्षा हुई है, वह किसी से छिपी नहीं है। पिछले एक साल में बीजेपी सरकार ने अयोध्या को वैश्विक पहचान दिलाने का काम किया है।

सीएम ने कहा कि कांग्रेस एक तरफ राम मंदिर की बात करती है और दूसरी तरफ 2019 के बाद फैसला करने के लिए कोर्ट में अपील कर रही है। इससे साफ हो जाता है कि यह लोग क्या चाहते हैं।

Loading...