प्रशांत किशोर बोले- केवल विपक्ष का एकजुट होना भाजपा को हराने के लिए पर्याप्त नहीं

भाजपा को हराने के लिए चुनावी रणनीति कार प्रशांत किशोर का मानना है कि केवल विपक्षी दलों का एकजुट होना ही काफी नहीं है भाजपा को हराने के लिए। 1 न्यूज़ चैनल को दिए इंटरव्यू के दौरान प्रशांत किशोर की यह प्रतिक्रिया सामने आई।

इंटरव्यू के दौरान उनसे पूछा गया की, ममता बनर्जी भाजपा के खिलाफ विपक्षी दलों को एकजुट करने का आह्वान रही है। यह कोशिश कितनी कारगर होगी?

सवाल का जवाब देते हुए प्रशांत किशोर ने कहा विपक्ष का एकजुट होना ही भाजपा को हराने के लिए पर्याप्त नहीं है। विपक्षी दल भाजपा के खिलाफ एक साथ आते हैं तो एक मजबूत गठबंधन बनता दिखाई दे सकता है लेकिन यह रणनीति भाजपा को हराने के लिए उतनी कारगर नहीं है क्योंकि भाजपा ने पहले चुनावों में गठबंधन को हराया है।

उदाहरण देते हुए प्रशांत किशोर ने कहा कि उत्तर प्रदेश चुनाव में देखा कि समाजवादी बसपा और अन्य दल साथ मिलकर भाजपा के खिलाफ लड़े लेकिन उन्हें हार का सामना करना पड़ा। आसाम के महागठबंधन को भी भाजपा से हार का सामना करना पड़ा।

फिर उन्होंने कहा भाजपा को हराने के लिए आपके पास एक ऐसा चेहरा होना चाहिए जोकि नरैटिव होना चाहिए और इसके बाद अन्य समीकरण है।

विज्ञापन