गुजरात: अहमदाबाद में अब सड़क किनारे नहीं बिकेंगे नॉन-वेज आइटम, सीएम पटेल बोले

गुजरात के अहमदाबाद (Ahmedabad) शहर में अब सड़को के किनारे मीट या कोई भी नॉन-वेज आइटम (non-vegetarian items) नहीं बिकेंगे। अहमदाबाद के नगर निमग ने सड़क किनारेनॉन-वेज आइटम्स बेचने वाले स्टॉल को अनुमति नहीं देने का फैसला किया है। अहमदाबाद नगर निगम की टाउन प्लानिंग कमेटी के अध्यक्ष देवांग दानी ने कहा, “सार्वजनिक सड़कों और स्कूलों, कॉलेजों और धार्मिक स्थलों के 100 मीटर के दायरे में मांसाहारी सामान बेचने वाले स्टालों की अनुमति नहीं होगी।”

उन्होंने कहा कि ‘गंदगी’ के साथ खाने-पीने की चीजें बेचने वाले या शहर की सड़कों पर ट्रैफिक में बाधा डालने वाले रेहड़ी वालों पर कार्रवाई की जा सकती है। आणंद जिले में भारतीय जनता पार्टी के एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए पटेल ने कहा कि लोग क्या खाते हैं इससे सरकार को मतलब नहीं है, कुछ लोग वेज खाना खाते हैं, कुछ लोग नॉनवेज खाना खाते हैं, भाजपा सरकार को इससे कोई समस्या नहीं है।

उन्होंने बताया कि सड़क से विशेष ठेले हटाने की मांग की गई है। हमारी चिंता यह है कि रेहड़ी पर बेचे जाने वाला खाना साफ-सुथरा होना चाहिए। इससे पहले गुजरात के राजकोट नगर निगम ने सार्वजनिक रूप से अंडा और मांसाहारी ट्रकों के खड़ा करने पर रोक लगाई थी। इसके बाद वडोदरा, भावनगर, जामनगर, जूनागढ़ नगर निगम ने भी अंडे से जुड़े आइटम वाले लॉरी को सड़क किनारे खड़े होने पर रोक लगाई थी।

इसी के साथ भूपेंद्र पटेल ने यह भी कहा कि अगर सड़कों पर ट्रैफिक में दिक्कत होती है तो स्थानीय निकाय अपने हिसाब से फैसला ले सकते हैं। उन्होंने कहा कि जगह की स्थिति को समझते हुए स्थानीय नगर निगम या नगर पालिकाएं उचित फैसला ले सकती हैं।

विज्ञापन