सुनो द्रोपदी शस्त्र उठा लो, अब बचाने भगवान नही आएंगे – प्रियंका गांधी

उत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव है। जसिमे सभी पार्टियां अपनी ज़ोर शोर से जान लगा दे रही है। ऐसे में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने बुधवार को चित्रकूट में महिलाओं से संवाद के दौरान प्रियंका ने एक कविता के जरिए महिलाओं में उत्साह भरने की कोशिश की। उन्‍होंने पहले मत्स्यगजेन्द्रनाथ मंदिर में जलाभिषेक कर उतारी आरती फिर मंदाकिनी की जलधारा में बने मंच से महिलाओं से संवाद किया।

इस संवाद में प्रियंका ने ‘लड़की हूं, लड़ सकती हूं’ नारे के साथ बातचीत की शुरुआत की। प्रियंका ने कहा कि यूपी की हालत बहुत खराब है। खाद की लाइन में खड़े-खड़े कई लोगों ने जान गंवा दी। कोरोना काल में भाजपा सरकार फेल रही। महिलाओं का आह्वान करते हुए प्रियंका ने कहा- ‘बहुत हुआ इंतजार अब, सुनो द्रौपदी शस्त्र उठा लो अब गोविंद ना आएंगे। औरों से कब तक आस लगाओगी…।

प्रियंका ने मंदाकिनी नदी के रामघाट से योगी सरकार पर जमकर हम’ला बोला। उन्होंने कहा कि राजनीति में आजकल बहुत क्रूर’ता और हिं’सा है। लखीमपुर में मंत्री के बेटे ने किसानों को कुचल ​दिया। सरकार ने अत्याचा’री की मदद की। आशा बहनों को प्रशासन ने अपनी मांगों को उठाने पर बुरी तरह पीटा। उन्‍होंने कहा कि महिलाएं खुद अपनी लड़ाई लड़ें।

प्रियका की अहम बातें

  • मैं यहां आपसे इसलिए बात करने आई हूं कि अपना मन बना लीजिए। आप आधी आबादी हैं। तो एकजुट होकर आप अपना हक क्यों नहीं मांग रही हैं?
  • राजनीति में आपकी भागीदारी सुनिश्चित है। महिलाएं लड़ेंगी और लड़ने से समाज और राजनीति में एक बहुत बड़ा बदलाव आएगा। कोई ऐसा राजनैतिक दल नहीं होगा जो उन्हें रोक पाएगा।
  • मोबाइल आपकी सुरक्षा में मदद करेगा। स्कूटी देने की प्रतिज्ञा आपकी पढ़ाई में आपकी मदद करेगी। महिलाओं को सरकारी बस में सारी यात्राएं फ्री होंगी। सरकारी पदों में महिलाओं के ​लिए 40% प्रावधान पहले से मौजूद है।
  • प्रदेश में हर जिले में 75 पाठशालाएं जो केंद्रीय विद्यालय की तरह होंगे लेकिन सिर्फ महिलाओं के लिए होंगे। जिसमें पढ़ाई के साथ अलग-अलग हुनर सिखाए जाएंगे।
  • महिलाओं में करुणा भाव होता है। राजनीति में हिंसा, क्रूरता, अत्याचार और शोषण खत्म करने के लिए महिलाओं का आगे आना जरूरी है। आप आगे आइए ताकि हम राजनीति, समाज और पूरे देश को बदल सकें।
विज्ञापन