Thursday, October 21, 2021

 

 

 

लालू की पार्टी ने वीर सावरकर को कहा डरपोका, माफीवीर, अंग्रेजों का दलाल क्यों ?

- Advertisement -
- Advertisement -

लालू ने जब 1997 में नई पार्टी बनाई तो एक तरह से उनके संविधान में अघोषित तरीके से साफ कर दिया गया था कि पार्टी संघ और बीजेपी के विरोध की विचारधारा पर चलेगी। असल मामला यह है के आरजेडी की नींव ही संग विरोध पर है।

23 अक्टूबर 1990 को लालू ने जब आडवाणी को यह रथ यात्रा के दौरान बिहार के समस्तीपुर में गिरफ्तार करवाया था तभी यह तय हो गया था। तत्कालीन जनता दल कोट से बिहार के मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव की सियासत का आधार क्या होगा।

कुछ दिन पहले तेजप्रताप यादव ने लालू को दिल्ली में बंधक बनाने का आरोप लगाया था। तब तेजस्वी ने इसका जवाब देते एक बयान दिया। तेजस्वी ने अपने बयान में कहा कि जिस लालू ने आडवाणी जैसी शख्सियत को बिहार में गिरफ्तार करवा लिया उसकी शख्सियत से बंधक बनाए जाने की बात मेल नहीं खाती

बस इसी बयान के बाद आरजेडी के ऑफिशल टि्वटर हैंडल से एक ट्वीट हुआ उसमें लिखा हुआ था। ‘संघियों का देवता अंग्रेजों का दलाल माफीवीर सावरकर आजादी के बाद लगभग 19 साल जीवित रहा। उनकी मृत्यु 1966 को हुई। कोई बता सकता है कि अगर वह डरपोका सचमुच वीर था तो आजादी के बाद बची जिंदगी में उसने एक भी वीरता का कोई काम किया है? बताओ संघियों? तुम लुटेरों अंग्रेजों के दलाल थे।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles