किसान ने बेटी की शादी के कार्ड पर छाप दिया BJP-RSS के लोग दूर रहें

केंद्र सरकार ने कृषि कानून को वापस लेने का ऐलान तो कर दिया है लेकिन किसानों के बीच अभी भी कृषि कानून को लेकर गुस्सा बरकरार है जिसमें से किसानों का कहना है कि जब तक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी संसद में कृषि कानून वापस लेने की बात नहीं करते हैं तब तक आंदोलन को ख़त्म नहीं किया जाएगा।

ऐसे में किसान आंदोलन कार्यों का गुस्सा इतना बढ़ गया है कि लोग शादी में जो कार्ड छपवाते हैं लोगों, मित्रो और परिवार के सदस्यों को आमंत्रित करने के लिए ऐसे ही एक शादी समारोह के कार्ड पर कुछ ऐसा छाप दिया जिससे कि काफी हल्ला मच गया है। आजतक में प्रकाशित खबर के अनुसार, एक शादी के कार्ड पर बीजेपी और संघ के लोग शादी से दूर रहें छाप दिया गया है। इस कार्ड पर काफी चर्चा हो रही है।

दरअसल यह मामला हरियाणा के झज्जर का है जहां पर एक शख्स ने अपनी बेटी की शादी में BJP और JJP और RSS संघ के लोगों को दूर रहने के लिए कह दिया है। सोशल मीडिया पर इस कार्ड की तस्वीर वायरल हो चुकी है। इस शख्स का नाम राजेश धनखड़ है जो विश्व जाट महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं और कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष रह चुके हैं।

राजेश धनखड़ पूर्व ब्लॉक समिति चेयरमैन भी रह चुके हैं 1 दिसंबर को उन्हीं के घर पर उनकी बेटी की शादी है और यह कार्ड उसी शादी के लिए छपवा ए गए हैं आप भी एक नजर इस कार्ड पर डाल लिए।

केंद्र सरकार द्वारा लाए गए 3 कृषि कानूनों को लेकर हरियाणा में किसानों के बीच बेहद नाराजगी है। तीनों कानूनों के खिलाफ किसान करीब एक साल से आंदोलन कर रहे हैं। आंदोलन के दौरान करीब सात सौ किसानों की मौ’त भी हो चुकी है। हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मादी ने राष्ट्र के नाम संबोधन में तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने का ऐलान किया है लेकिन किसान आंदोल’नकारियों का कहना है कि जब तक संसद में यह कानून रद्द नहीं हो जाते और न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) पर कानून नहीं बनाया जाता तब तक आंदो’लन जारी रहेगा।

विज्ञापन