लखनऊ | उत्तर प्रदेश में प्रचंड बहुमत हासिल करने के बाद भी, बीजेपी, करीब एक हफ्ते तक मुख्यमंत्री उम्मीदवार का चुनाव नही कर सकी. लेकिन शनिवार को इस सस्पेंस से भी पर्दा उठ गया. बीजेपी विधायक दल की बैठक में बीजेपी के सबसे कट्टर हिन्दुत्वादी नेता योगी आदित्यनाथ को मुख्यमंत्री के तौर पर चुन लिया गया. इसके अलावा प्रदेश में दो उप मुख्यमंत्री बनाने का भी फैसला लिया गया.

पिछले दो दिन से गृह मंत्री राजनाथ सिंह और रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा का नाम मुख्यमंत्री की रेस में सबसे आगे चल रहा था. लेकिन राजनाथ सिंह के इनकार के बाद यह तय हो गया था की मनोज सिन्हा यूपी के अगले मुख्यमंत्री होंगे. इन सभी अटकलों पर विराम लगाते हुए बीजेपी विधायक दल की बैठक में योगी आदित्यनाथ को मुख्यमंत्री पद के लिए चुना गया.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

शनिवार सुबह खबर मिली की मनोज सिन्हा का नाम आने के बाद योगी केन्द्रीय नेतृत्व से नाराज चल रहे थे. इसके बाद योगी को स्पेशल प्लेन भेजकर दिल्ली बुलाया गया जहाँ सारे समीकरण बदल दिए गए. केन्द्रीय नेतृत्व से बात करने के बाद योगी लखनऊ पहुंचे तो तय हो गया की योगी ही उत्तर प्रदेश के अगले मुख्यमंत्री हंगे.

मुख्यमंत्री चुनने के बाद योगी आदित्यनाथ ने अपने धन्यवाद् भाषण में कहा की मुझे उत्तर प्रदेश के विकास के लिए आप सभी 325 विधायको के सहयोग की जरुरत है. इसके अलावा चूँकि उत्तर प्रदेश काफी बड़ा प्रदेश है इसलिए मुझे दो साथियों की और जरुरत पड़ेगी. योगी के आग्रह पर विधायक दल की बैठक ने उत्तर प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य और लखनऊ के मेयर दिनेश शर्मा को उप मुख्यमंत्री पद के लिए चुना गया.

विधायक दल की बैठक शुरू होने से पहले भी कई घटनाक्रम घटित हुए. केन्द्रीय परिवेक्षक वैंकया नायडू और धर्मेन्द्र प्रधान ने कई सीनियर विधायको से अलग कमरे में बात की. इसके बाद योगी आदित्यनाथ , केशव प्रसाद और दिनेश शर्मा को लोकभवन बुलाया गया. जहाँ उन्हें सर्वसम्मति से नेता चुना गया. बाहर निकलने के बाद केशव प्रसाद ने कहा की हमारा पूरा फोकस उत्तर प्रदेश के विकास पर होगा और योगी आदित्यनाथ एक सफल मुख्यमंत्री साबित होंगे. योगी कल सवा दो बजे मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे.

 

Loading...