चेन्नई | तमिलनाडु में राजनीतीक घटनाक्रम बड़ी तेजी से बदल रहा है. सूत्रों के अनुसार दो फाड़ हुआ सत्ताधारी दल AIADMK फिर से एक हो सकता है. इसके लिए दोनों गुटों में बातचीत जारी है. माना जा रहा है दोनो पक्षों में सहमती हो चुकी है, बस औपचारिक एलान करना बाकी है. सुलह का सबसे ज्यादा नुक्सान शशिकला को होता दिख रहा है क्योकि पन्नीरसेलवम गुट की पहली मांग यही रही है की शशिकला और उसके भतीजे को पार्टी से अलग किया जाये.

इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार मुख्यमंत्री पलानिस्वामी और पूर्व मुख्यमंत्री पन्नीरसेलवम के बीच समझौता हो गया है. अख़बार ने सूत्रों के हवाले से लिखा है की समझौते के अनुसार पन्नीरसेलवम दोबारा से मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे जबकि पलानिस्वमी पार्टी चीफ की जिम्मेदारी संभालेंगे. इसके अलावा स्वास्थ्य मंत्री सी विजयभास्कर को मंत्री पद से हटा दिया गया है. उनकी जगह सेन्धील बालाजी को यह पदभार सौपा गया है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

बताते चले की AIADMK विधायक सेन्धील बालाजी को पहले पार्टी से निकाल दिया गया था. लेकिन समझौते के बाद उनकी भी वापसी हो गयी है. दरअसल 6 विधायको के बागी हो जाने के बाद पलानिस्वामी की सरकार पर खतरे के बादल मंडराने लगे थे. हालाँकि उनके पास अभी भी 122 विधायको का समर्थन है लेकीन बहुमत के लिए यह आंकड़ा नाकाफी था.

इसलिए हालात को काबू में लाने के लिए यह सुलह की जा रही है. रिपोर्ट्स के अनुसार पलानिस्वमी खेमा इस बात के लिए भी राजी हो गया है की शशिकला और उनके भतीजे दिनाकरन को पार्टी से अलग कर दिया जाए. गुरुवार को पन्नीरसेलवम खेमे ने कहा था की दोनों के इस्तीफे के बाद ही दोनों गुटों को एक करने पर बातचीत हो सकती है. इसके अलावा उन्होंने जयललिता की मौत की सीबीआई जांच कराने की मांग भी रखी थी.

Loading...