चेन्नई | तमिलनाडु मे फैली राजनितिक अस्थिरता खत्म होने का नाम नही ले रहे है. रोजाना घटनाक्रम इतनी जल्दी जल्दी बदल रहे है की कुछ भी भविष्यवाणी करना संभव नही है. फ़िलहाल राज्यपाल ने शशिकला खेमे के इ पलनिसामी और पन्नीरसेलवम को अपने अपने विधायको के समर्थन पत्र लेकर राजभवन बुलाया है. फ़िलहाल दोनों खेमे राजभवन पहुँच चुके है. उधर शशिकला ने बुधवार शाम को बगलोर ट्रायल कोर्ट में सरेंडर कर दिया जहाँ से उनको जेल भेज दिया गया.

मिली जानकारी के अनुसार शशिकला द्वारा विधायक दल के नेता चुने गए इ पलनिसामी अपने कुछ समर्थको के साथ राज्यपाल से मिलने पहुंचे. इस दौरान उन्होंने 124 विधायको का समर्थन होने दावा किया. उनके पीछे पीछे पन्नीरसेलवम भी राज्यपाल से मिलने पहुंचे. दोनों ने ही बहुमत साथ होने का दावा किया है. ऐसे में राज्यपाल विधासागर राव के लिए असमंजस की स्थिति बनी हुई है.

फ़िलहाल उम्मीद है की दो दिनों के अन्दर तमिलनाडु को उनका मुख्यमंत्री मिल जाएगा. लेकिन शशिकला के जेल जाने के बाद भी पन्नीरसेलवम के लिए राह आसान नही हुई है. पहले उनको पार्टी से निकाल दिया गया फिर शशिकला ने जयललिता के सबसे करीबियों में से एक इ पलनिसामी को विधायक दल का नेता घोषित कर दिया. यही नही शशिकला ने अपने भतीजे टी. टी. वी. दिनाकरण को पार्टी का डिप्टी जनरल सेक्रेट्री भी नियुक्त कर दिया.

उधर सुप्रीम कोर्ट से राहत नही मिलने के बाद शशिकला ने बुधवार शाम को बंगलौर ट्रायल कोर्ट में सरेंडर कर दिया. जिसके बाद उन्हें बंगलौर की परप्पाना अग्रहारा जेल भेज दिया गया. यहाँ उन्होंने अदालत से एक ‘ए’ क्लास सेल, मेडिकल सुविधा, मिनरल वाटर, घर का बना खाना और मैडिटेशन करने के लिए जगह देने का आग्रह किया है. हालाँकि अभी उन्हें जो सेल दिया गया है उसमे पहले से ही दो कैदी बंद है. इसलिए अभी उन्हें दो लोगो के साथ अपना सेल शेयर करना होगा.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें