Wednesday, June 16, 2021

 

 

 

अगस्ता वेस्टलैंड डील में एक और खुलासा, रसूखदार परिवार ने ली 115 करोड़ रूपए की रिश्वत

- Advertisement -
- Advertisement -

482546-vvip

नई दिल्ली | पिछले कुछ दिनों से चर्चा में चल रहे अगस्ता वेस्टलैंड डील में एक और खुलासा हुआ है. खुलासे में कहा गया है की डील को अंजाम तक पहुँचाने के लिए किसी रसूखदार परिवार को 115 करोड़ रूपए रिश्वत दी गयी थी. यह खुलासा डील के मुख्य बिजोलिये क्रिस्चियन मिशेल के कुछ खुफिया कागजातों से हुआ है. इन कागजातों में कुछ नौकरशाहों के भी नाम है. खुलासा सामने आते ही इसने राजनितिक रंग भी लेना शुरू कर दिया है.

इंडिया टुडे टीवी के अनुसार उनके पास क्रिस्चियन मिशेल के वो सभी खुफिया कागजात और ईमेल की कॉपी है जिसमे यह खुलासा किया गया. रिपोर्ट के अनुसार मिशेल को अगस्ता वेस्टलैंड की मूल कंपनी फिनमैकेनिका ने इस सौदे को अंजाम तक पहुँचाने के लिए हायर किया था. मिशेल के कागजातों से पता चला है की फिनमैकेनिका ने उन सब लोगो के लिए 373 करोड़ रूपए रिश्वत के लिए रखे थे जो इस सौदे को अंजाम तक पहुँचाने के लिए महत्तवपूर्ण भूमिका निभा सकते थे.

मिशेल के ये कागजात इटली सरकार ने जब्त किये थे जो बाद में सीबीआई को सौप दिए गए. इन कागजातों के एक नोट में उन राजनितिक लोगो के नाम भी लिखे हुए है जो सरकार में भी थे और सरकार से बाहर भी. एक नोट में मिशेल लिखते है ‘वीआईपी के पीछे ड्राईविंग फोर्स श्रीमती गांधी हैं, वो अब आगे से Mi-8 में उड़ान नहीं भरेंगी’. इस नोट में मनमोहन सिंह के अलावा अहमद पटेल के नाम का भी उल्लेख किया गया है.

मिशेल की इस डायरी में काफी राज छिपे हुए है. डायरी के अनुसार मिशेल ने कंपनी को एक रसूखदार परिवार के लिए 1.5 से 1.6 करोड़ यूरो अलग से रखने के लिए कहा गया था. इसके अलावा किसी ‘AP’ के लिए भी 30 लाख यूरो रखने की सलाह दी गयी थी. हालांकि डायरी में यह नही बताया गया की ‘AP’ कौन है. अब ये AP अहमद पटेल है या नही , डायरी में यह स्पष्ट तौर पर कही नही लिखा गया.

मिशेल के कागजातों से यह भी स्पष्ट है की संभवत 60 लाख यूरो भारतीय वायुसेना के अधिकारियों को, 84 लाख यूरो नौकरशाहों को और 1.5 से लेकर 1.6 करोड़ यूरो एक राजनीतिक परिवार को दिए गए. इंडिया टुडे के खुलासे के साथ ही राजनितिक बवाल शुरू हो गया. राज्यसभा और लोकसभा में सत्ता पक्ष ने इस मुद्दे को खूब उछाला. हंगामे की वजह से लोकसभा व राज्यसभा कल तक के लिए स्थगित कर दी गयी.

हालांकि कांग्रेस की तरफ से सफाई देते हुए रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा की वो सत्ता में इ है अगर उनके पास ऐसे कोई सबूत है तो वो कार्यवाही करने के लिए स्वतंत्र है. अभी तक इस मामले में जितनी भी कार्यवाही हुई है वो युपीए शासनकाल के दौरान हुई. अभी तक सरकार क्या कर रही थी. उनको अभी यह सब क्यों याद आ रहा है. पिछले ढाई साल में सरकार क्या कर रही थी?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles