najeeb-jung-arvind-kejriwal-single_650x488_41434306763

नई दिल्ली | दिल्ली के उपराज्यपाल नजीब जंग के इस्तीफे से हर कोई हैरान है. यह हर कोई जानना चाहता है की नजीब जंग के इस्तीफे के पीछे के असली कारण क्या है. हालांकि न ही उपराज्यपाल कार्यलय और न ही उनके इस्तीफे में कोई कारण स्पष्ट किया गया है. इसी बीच शुक्रवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल, नजीब जंग से मिलने पहुंचे.

नजीब जंग के इस्तीफे की खबर आते ही केजरीवाल ने ट्वीट कर जानकारी दी थी की वो शुक्रवार को नजीब जंग से मुलाकात करेंगे. शुक्रवार सुबह केजरीवाल नजीब जंग से मुलाकात करने राजनिवास पहुंचे. करीब आधे घंटे की मुलाकात के बाद बाहर निकले केजरीवाल ने पत्रकारों से कहा की उन्होंने निजी कारानो से इस्तीफा दिया है.

नजीब जंग के साथ तल्ख़ रहे रिस्तो पर बोलते हुए केजरीवाल ने कहा की जिन्दगी में खट्टा मीठा तो चलता रहता है. उन्होंने मुझे चाय पर आमंत्रित किया तो मैं आ गया. इस दौरान केजरीवाल के साथ उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया भी मौजूद थे. मनीष ने नजीब जंग को भविष्य के लिए शुभकामनाये दी और कहा की कोई भी नया उपराज्यपाल नियुक्त हो, हम परेशानी के साथ या बिना परेशानी,  दिल्ली की जनता के हितो के लिये काम करते रहेंगे.

मालूम हो की नजीब जंग 2013 में युपीए शासनकाल में दिल्ली के 20वे उपराज्यपाल नियुक्त हुए थे. वैसे एक राज्यपाल का कार्यकाल 5 साल का होता है लेकिन उपराज्यपाल के मामले में इसकी समय सीमा केन्द्र् सरकार तय करता है. पिछले उपराज्यपाल छह साल तक भी पद पर रहे है. उधर दिल्ली के उपराज्यपाल पद के लिए तीन नामो की चर्चा है. इनमे 1965 बैच के आईएएस अनिल बीजल , दिल्ली के पूर्व कमिश्नर बीएस बस्सी और पोंडिचेरी की वर्तमान उपराज्यपाल किरण बेदी शामिल है .


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें