नई दिल्ली | प्रधानमंत्री मोदी की कल राज्यसभा में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को लेकर की गयी ‘रेनकोट’ वाली टिप्पणी पर कांग्रेस आग बबूला हो गयी है. आज संसद की कार्यवाही शुरू होते ही कांग्रेस ने लोकसभा और राज्यसभा में हंगामा करना शुरू कर दिया. कांग्रेस की मांग है की मोदी , अपने बयान के लिए सदन में माफ़ी मांगे. जबकि बीजेपी ने कांग्रेस की मांग को ठुकराते हुए कहा की कांग्रेस पहले अपने गिरेबान में झांके.

बुधवार को राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर बोलते हुए मोदी ने कहा था की देश को आजाद हुए 70 साल हो चुके है. जबकि पिछले 35 सालो में देश के कई अहम् फैसलों में डॉ मनमोहन सिंह की बड़ी भूमिका रही है. इस दौरान काफी घोटाले हुए लेकिन डॉ साहब के दामन पर एक भी दाग नही लगा. बाथरूम में रेनकोट पहनकर नहाने की कला तो को मनमोहन जी से सीखे.

मोदी के इस बयान पर कांग्रेस सांसदों ने कल ही राज्यसभा में पहले हंगामा किया और फिर सदन से वाक् आउट कर गए. मोदी के बयान पर सरकार को घेरने की कोशिश कर रही कांग्रेस ने आज विपक्षी दलों के साथ बैठक की. गुलाब नबी आजाद के साथ हुई बैठक में फैसला किया गया की सदन में इस मुद्दे पर चर्चा कराई जायेगी. इसके अलावा कांग्रेस ने मोदी से सदन में माफ़ी मांगने की भी मांग की है.

इसके बाद लेफ्ट नेता सीताराम येचुरी ने इस मामले को राज्यसभा में उठाते हुए कहा की मोदी का मनमोहन सिंह को लेकर दिया गया बयान काफी अपमानजनक है. इस पर चर्चा होनी चाहिए. कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने मोदी द्वारा गोडबोले की किताब का जिक्र कर इंदिरा गाँधी पर आरोप लगाने के बयान पर कहा की यह शर्म का विषय है की पीएम एक किताब का हवाला देकर इंदिरा जी की स्मृतियों को ठेस पहुंचा रहे है. जबकि उन्होंने उस किताब को पटल पर भी नही रखा.

कांग्रेस और विपक्ष की मांग पर केद्रीय मंत्री वैंकया नायडू ने कहा की मोदी जी माफ़ी क्यों मांगेंगे? कांग्रेस कई बार पीएम मोदी और इस सदन का अपमान कर चुके है. वो मोदी को हिटलर , तानाशाह और न जाने क्या क्या कह चुके है. कांग्रेस यह सब इसलिए कर रही है क्योकि वो मोदी सरकार द्वारा किये जा रहे अच्छे काम को पचा नही पा रही है. उधर वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा की पीएम को बयान देने का हक़ है.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें