मुंबई | निर्देशक मधुर भंडारकर को जान से मारने की साजिश रचने के आरोप में मुंबई की एक अदालत ने अभिनेत्री प्रीति जैन को तीन साल की सजा सुनाई है. प्रीति पर आरोप था की उन्होंने 2005 में एक गैंगस्टर को पैसे देकर मधुर को मारने की साजिश रची थी. हालाँकि खुद मधुर भंडारकर पर प्रीति जैन का बलात्कार करने का मुकदमा चल रहा है.

दरअसल प्रीति जैन ने जुलाई 2004 में मधुर भंडारकर के खिलाफ वर्सोवा थाने में शिकायत दर्ज कराई थी की उन्होंने शादी करने का झांसा देकर उनके साथ बलात्कार किया है. अपनी शिकायत में प्रीति ने यह भी बताया की साल 1999 से लेकर 2004 तक फिल्मो में काम देने और शादी का झांसा देकर मधुर ने उसके साथ करीब 16 बार बलात्कार किया. लेकिन बाद में वो अपनी बात से मुकर गए.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इसी मामले मुंबई पुलिस ने मधुर को गिरफ्तार भी किया था. लेकिन जांच करने के बाद पुलिस ने सितम्बर 2011 को अदालत में जो रिपोर्ट रखी उसमे प्रीति के सभी आरोपों को झूठा बताया गया गया. अपनी रिपोर्ट में पुलिस ने कहा की प्रीति ने मधुर पर रेप के झूठे आरोप लगाए है. लेकिन अदालत ने पुलिस की रिपोर्ट को ख़ारिज करते हुए उन पर अपराधिक मुकदमा चलाने का आदेश दिया.

हालाँकि मधुर ट्रायल कोर्ट के फैसले के खिलाफ हाई कोर्ट गए थे लेकिन वहां भी उनकी याचिका खरिज कर दी गयी. वही मुंबई की एक अदालत ने आज , मधुर की हत्या करने के लिए गैंगस्टर अरुण गावली को 75 हजार रूपए फिरौती देने के आरोप में प्रीति और दो अन्य को दोषी करार देते हुए तीन साल की सजा सुनाई. उम्मीद है की प्रीति अदालत के फैसले को हाई कोर्ट में चुनौती दे.