कैसे बन सकते हैं IAS अफसर? जानिए कुछ अहम बाते

लोगो का सपना होता है IAS बनना उससे लिए लोग साडी ज़िन्दगी संघर्ष करते है फिर जेक उन्हें ये मुकाम मिल पता है। लेकिन इस मुकाम को पाने के लिए आपका मार्ग सही हो ये सबसे ज़्यादा महत्वपूर्ड है। यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन एग्जाम (UPSC Exam) पास करने के बाद आईएएस, आईपीएस, आईईएस या आईएफएस अधिकारी पर चयन होता है, लेकिन इन सभी अधिकारियों का काम अलग होता है और उनकी भूमिकाएं भी अलग-अलग होती हैं।

क्या आपको पता है कि कैसे एक आईएएस अफसर बन सकते हैं और एक आईएएस की ताकत क्या होती है। तो चलिए आपको बताते हैं कि एक आईएएस अफसर (IAS Officer) बनने के लिए क्या करना पड़ा है। आईएएस बनने के लिए यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन (UPSC) द्वारा आयोजित सिविल सर्विस परीक्षा (CSE) देना पड़ा है ।

इसके लिए किसी भी आवेदक का ग्रेजुएट होना जरूरी है। किसी भी सब्जेक्ट या स्ट्रीम से ग्रेजुएट स्टूडेंट इस एग्जाम के लिए अप्लाई कर सकता है। संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) परीक्षा को भारत की सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक माना जाता है और इसकी तैयारी करने वाले स्टूडेंट्स को कड़ी मेहनत करनी पड़ती है। टाइम्स नाउ की रिपोर्ट के अनुसार, यूपीएससी की सिविल सर्विस परीक्षा में शामिल होने के लिए स्टूडेंट्स की न्यूनतम उम्र (Minimum Age for Civil Services Exam) 21 वर्ष है।

सामान्य वर्ग (General Category) के आवेदक अधिकतम 32 वर्ष की उम्र तक 6 बार इस परीक्षा में हिस्सा ले सकता हैं। एसटी-एससी के लिए उम्र सीमा 21 साल से 37 साल है, जबकि इस कैटेगरी के स्टूडेंट्स को एग्जाम अटेम्प्ट करने की कोई लिमिट नहीं है। ओबीसी के लिए उम्र सीमा 21 से 35 साल है और इस कैटेगरी के स्टूडेंट्स 9 बार एग्जाम दे सकते हैं। वगी फिजिकली डिसएबल कैंडिडेट्स के लिए उम्र सीमा 21 से 42 साल है। इस कैटेगरी में जनरल और ओबीसी कैंडिडेट्स 9 बार एग्जाम दे सकते हैं, जबकि एसटी-एससी के लिए कोई लिमिट नहीं है।

विज्ञापन