विवादित सलाफी उपदेशक जाकिर नाईक ने प्रवर्तन निदेशालय के समन के जवाब में एक पत्र भेजा हैं, जिसमे उसने प्रवर्तन निदेशालय से सवालों की सूची भेजने की मांग की हैं. जाकिर ने कहा,  एजेंसी उसे प्रश्नावली भेज सकती है क्योंकि व्यक्तिगत रूप से पेश होने पर उसे गिरफ्तारी का डर है.

नाईक ने अपने वकील महेश मुले के जरिये पत्र लिखकर कहा है, ‘‘आमिर गजदार (नाईक के विश्वासपात्र) की गिरफ्तारी से जांच को लेकर हमारी आशंका और मजबूत हुई है और हमें भय है कि व्यक्तिगत रूप से पेश होने पर हमारे मुवक्किल के साथ भी ऐसा ही हो सकता है.’’

नाईक की और से गया कहा है कि एजेंसी उसको प्रश्नावली भेज सकती है, जिसका वह जवाब देंगे. नाईक ने कहा कि उसके अनिवासी भारतीय होने के बावजूद प्रवर्तन निदेशालय ने अदालत से कहा कि वह जांच में शामिल नहीं हो रहा है और जांच को गुमराह करने की कोशिश कर रहा है.

याद रहे समन के जवाब में इस सप्ताह की शुरुआत में नाईक ने कहा था कि वह किसी भी इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से बयान दर्ज कराने को तैयार है.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें