शाहजहांपुर | उत्तर प्रदेश में योगी युग की शुरुआत हो चुकी है. योगी आदित्यनाथ को उत्तर प्रदेश का नया मुख्यमंत्री चुना गया है. वो कल लखनऊ के स्मृति उपवन में पद एवं गोपनीयता की शपथ लेंगे. शपथ ग्रहण समारोह में प्रधानमंत्री मोदी समेत बीजेपी शासित सभी राज्यों के मुख्यमंत्री भी हिस्सा लेंगे. चूँकि प्रदेश में बीजेपी प्रचंड बहुमत के साथ सत्ता में लौटी है इसलिए कुछ पार्टी नेताओं ने चर्चा बटोरनी भी शुरू कर दी है.

सरकार गठन से पहले ही एक बीजेपी विधायक के बेटे की गुंडागर्दी का मामला सामने आया है. विधायक के बेटे की गुंडागर्दी से परेशान होकर पुलिस वाले भी थाना छोड़कर भागने की बात करने लगे है. अब इसे सत्ता का नशा कहे या 14 साल बाद मिला सत्ता का स्वाद, यह तो विधायक साहब ही अच्छी तरह बता सकते है लेकिन इस तरह के विवाद बीजेपी सरकार के लिए अच्छा सगुन नही है.

दरअसल शाहजहांपुर से बीजेपी विधायक रोशन लाल वर्मा के बेटे की हरकतों से तंग आकर यहाँ के पुलिसकर्मियों ने सम्बंधित अधिकारी को अर्जी लिखकर तबादला करने की मांग की है. निगोही थाना के दरोगा और सिपाही रोशन लाल वर्मा के बेटे की गुंडागर्दी से इतने परेशान हो चुके है की वो इस थाने में नौकरी ही नहीं करना चाहते. इसलिए करीब 21 पुलिसकर्मियों ने एसपी को पत्र लिखकर ट्रान्सफर करने की मांग की है.

चूँकि मामला सत्ताधारी पार्टी के विधायक का है इसलिए इस मामले पर बोलने के लिए कोई भी पुलिस अधिकारी तैयार नही है. जब इस मामले में एडिशनल एसपी से बात की गयी तो उन्होंने ऐसी किसी भी घटना से इनकार किया. उनका कहना है की हमें अभी तक इस प्रकार की कोई अर्जी नही मिली है. अगर ऐसा कोई मामला होता तो मेरे संज्ञान में जरुर आता. हालाँकि हम कप्तान साहब की मजबूरी समझ सकते है की आखिर क्यों वो इस मामले से अनजान बन रहे है?

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?