लखनऊ | उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पद सँभालने के बाद पहला इंटरव्यू दिया है. आरएसएस के मुखपत्र ‘पांञ्चजन्य’ में दिए इंटरव्यू में योगी ने कहा की राम मंदिर विवाद का हल बातचीत के जरिये ही निकलना चाहिए. उन्होंने सुप्रीम कोर्ट की सलाह का स्वागत करते हुए कहा की इस मसले का हल निकालने के लिए सरकार हर संभव मदद करने के लिए तैयार है.

योगी ने अवैध बूचडखानो पर हो रही कार्यवाही पर स्पष्टीकरण देते हुए कहा की 2015 में हाई कोर्ट और एनजीटी के आदेश के तहत यह कार्यवाही की जा रही है. अपने आदेश में उन्होंने स्पष्ट किया है की केवल अवैध बूचडखानो पर कार्यवाही की जाये. इसलिए जिन लोगो के पास लाइसेंस है और जो सुप्रीम कोर्ट के मानको को पूरा करते है उन पर कोई कार्यवाही नही की जाएगी.

योगी ने आगे कहा की ऐसा करने वाले अधिकारियो के खिलाफ सख्त से सख्त कार्यवाही की जाएगी. प्रदेश में हो रही मीट की किल्लत पर योगी ने कहा की इससे अगर कोई शाकाहारी बनता है तो यह उसके स्वास्थ्य के लिए अच्छा रहेगा. लेकिन मैं किसी का स्वाद तो नही बदल सकता. हर व्यक्ति का अपना स्वाद हो सकता है और मैं इस पर प्रतिबंध नही लगाया जा सकता.

हालाँकि योगी ने चेताते हुए अंदाज में कहा की भारत के संविधान ने सबको आजादी दी है, लेकिन यह एक दायरे के अन्दर ही दी गयी है. अपने संकल्प पत्र को दोहराते हुए योगी ने कहा की वो हर हाल में संकल्प पत्र में दिए गए वादों को पूरा करेंगे. अभी किसानो के लिए 6 महीने के अन्दर छह नई चीनी मिलो का शिलान्यास करेंगे और ऐसी व्यवस्था बनाने का प्रयास होगा की 14 दिनों के अन्दर गन्ना किसानो का पैसा उनके अकाउंट में चला जाये. योगी ने 24 घंटे बिजली देने के अपने वादे को भी दोहराया.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?