पौढ़ी | योगी आदित्यनाथ के उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री बनने के बाद कुछ लोगो को लग रहा है की प्रदेश के विकास में योगी की कट्टर हिंदुत्वादी सोच आड़े आ सकती है. चुनाव प्रचार के दौरन योगी आदित्यनाथ ने जिस प्रकार के बयान दिए उससे लोगो को लग रहा है की वो अपनी इसी सोच पर ही आगे बढ़ सकते है. चूँकि मुख्यमंत्री पुरे प्रदेश का होता है इसलिए उनके हर निर्णय में सबका साथ और सबका विकास वाली सोच होनी चाहिए.

हालाँकि योगी आदित्यनाथ ने मुख्यमंत्री बनने के बाद जो पहली प्रेस कांफ्रेंस की उसमे उन्होंने समूचे प्रदेश के विकास की बात की है. उन्होंने प्रेस वार्ता में सबका साथ सबका विकास पर जोर देते हुए कहा की बिना भेदभाव सबका विकास करना हमारी प्रतिबद्धता है. अब इस मुद्दे पर योगी आदित्यनाथ के पिता ने भी अपनी चुप्पी तोड़ी है. उन्होंने बेटे के सीएम् बनने पर ख़ुशी जताते हुए उनसे किसी से भेदभाव न करने की अपील की है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

योगी आदित्यनाथ के पिता आनंद सिंह बिष्ट ने बेटे के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद मीडिया से बात करते हुए कहा की आज मैं बहुत खुश हूँ. मुझे अपने बेटे पर गर्व है. मेरा मानना है की बच्चो को अपनी इच्छा से ही काम करना चाहिए. वही ठीक होता है. योगी के पिता ने बताया की उन्होंने अपने बेटे से बात की है और उनको समझाया है की अब तुम मुख्यमंत्री बन चुको हो. इसलिए किसी से बुरा व्यवहार मत करना.

मुस्लिमो के प्रति बेटे की कट्टर सोच पर उनके पिता ने कहा की मैंने बेटे को समझाया है की उसे अब मुस्लिमो से भेदभाव नही करना चाहिए. और मैं समझता हूँ की वो किसी से भेदभाव नही करेगा क्योकि उसमे महंत अवैधनाथ के लक्षण आ गये है. बेटे के सीएम् बनने पर उनकी माँ ने भी ख़ुशी जताई. उन्होंने कहा की मुझे ख़ुशी है की वो मुख्यमंत्री बन गया. मेरा उससे काफी लगाव रहा है लेकिन अभी तक बेटे से बात नही हुई है.

Loading...