लखनऊ | उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी अदित्यनाथ ने कांवड़ यात्रा के दौरान इस्तेमाल होने वाले लाउड स्पीकर और थानों में जन्माष्टमी मनाने जैसे मुद्दों पर अपनी राय रखी है. उन्होंने थानों में जन्माष्टमी मनाने पर रोक लगाने से इनकार कर दिया. लेकिन इसके लिए उन्होंने बेहद ही अजीब तर्क दिया. उनका कहना है की जब ईद के दिन सड़क पर नमाज पढने से नही रोक सकते तो जन्माष्टमी के दिन थानों को इसे मनाने से कैसे रोक सकते है.

बुधवार को आरएसएस की केशव संवाद पत्रिका के विशेषांक का लोकार्पण करते हुए योगी आदित्यनाथ ने उपरोक्त बाते कही. जब उनसे कांवड़ यात्रा के दौरान लाउड स्पीकर के इस्तेमाल पर रोक लगाने के बारे में पुछा गया तो उन्होंने कहा की वह कांवड़ यात्रा है या शव यात्रा? अगर कांवड यात्रा में ढोल, नगारे, चीमटे और डमरु नहीं बजेगा, लोग नाचेंगे गाएंगे नहीं तो फिर वह कांवड यात्रा कैसे हुई?

योगी आदित्यनाथ ने आगे कहा की मेरा मानना है की कांवड़ यात्रा में इन सब चीजो के इस्तेमाल पर रोक नही लगनी चाहिए. यूपी में कांवड़ यात्रियों के ऊपर ऐसा कोई भी प्रतिबंध नही लगाया जायेगा. इसके अलावा मैं आदेश जारी करूँगा की यात्रा के दौरान हेलीकाप्टर से फूलो की वर्षा होनी चाहिए. उन्होंने यह भी कहा की अगर लाउड स्पीकर पर रोक लगेगी तो सभी धर्म स्थलों पर यह रोक लगेगी.

थानो में जन्माष्टमी मनाने पर उन्होंने कहा पूर्व की सपा सरकार पर तंज कसते हुए कहा की जब ईद के दिन सडको पर नमाज पढ़ने से नही रोका जा सकता तो हम किस हक़ से पुलिस लाइन में जन्माष्टमी मनाने से रोक सकते है. अंत्योदय पर योगी ने कहा की अंत्योदय के लिए पंडित दीन दयाल उपाध्याय ने पांच दशक पहले जिन मूल्यों और मुद्दों को सामने रखा, देश और प्रदेश सरकार उनका अनुसरण करते हुए मजबूती से आगे बढ़ रही है.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?