जामिया मार्च पर गोलीबारी के आरोपी को पिस्तौल बेचने वाला शख्स गिरफ्तार

नई दिल्लीः जामिया मिल्लिया इस्लामिया के बाहर पिछले सप्ताह संशोधित नागरिकता कानून के विरोध में शांति मार्च निकाल रहे प्रदर्शनकारियों पर गोली चलाने वाले नाबालिग को कथित रूप से पिस्तौल बेचने वाले शख्स को दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

आरोपी अजीत (25) उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ जिले के सहजपुरा गांव का निवासी है। उसने राज्य के एक विश्वविद्यालय से बीए की पढ़ाई पूरी की है और वह परास्नातक में प्रवेश लेने वाला था। फिलहाल वह बीएड कर रहा है।

पुलिस के मुताबिक, जेवर के रहने वाले नाबालिग ने बताया था कि वह अपने एक रिश्तेदार के जरिये अजीत से मिला था। जेवर के ही रहने वाले रिश्तेदार ने अपने साले से नाबालिग को एक तमंचा दिलवाने के लिए कहा था। रिश्तेदार के साले ने नाबालिग को अजीत का सुराग दिया, जिससे बात बनने के बाद नाबालिग तमंचा लेने के लिए सहजपुरा गांव पहुंच गया। वहां 10 हजार रुपये देकर अजीत से तमंचा लिया और वापस जेवर आ गया था।

पूछताछ में अजीत ने खुलाया किया है कि उसने बंजारों से पांच हजार रुपये में तमंचा खरीदा था। उसका दावा है कि रात को खेतों में आने वाले जंगली जानवरों से सुरक्षा के लिए वह तमंचे को अपने खेतों में छुपाकर रखता था। इससे पहले नाबालिग ने खुलासा किया था कि सोशल मीडिया पर शरजील और सीएए के खिलाफ चल रहे विरोध प्रदर्शनों के विडियो देखकर आक्रोशित था।

अधिकारी के अनुसार नाबालिग ने बताया कि उसने पिता से रिश्तेदार की शादी में जाने के लिए कपड़े खरीदने का बहाना कर पैसा लिए थे। पुलिस ने कहा कि इसका भी पता लगाने का प्रयास किया जा रहा है कि अजीत को पिस्तौल कहां से मिली। अधिकारी ने बताया कि न्यू फ्रेंड्स कालोनी थाने में हत्या के प्रयास से संबंधित भारतीय दंड संहिता की धाराओं और शस्त्र अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया है। इसे अपराध शाखा को स्थानांतरित कर दिया गया।

विज्ञापन