CAA के खिलाफ प्रदर्शनकारी छात्रा से बदसलूकी पर बीजेपी नेता के खिलाफ केस दर्ज

कोलकाता : भाजपा के अभिनंदन यात्रा के दौरान संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के खिलाफ प्रदर्शन कर रही छात्रा को लेकर बदसलूकी के मामले में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की पश्चिम बंगाल इकाई के अध्यक्ष दिलीप घोष के खिलाफ पाटुली थाने में एफआइआर दर्ज की गई।

दरअसल, उन्होंने गुरूवार को नागरिकता संशोधन अधिनियम का विरोध कर रही एक छात्रा के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी की थी। इतना ही नहीं छात्रा की बीजेपी कार्यकर्ताओं ने पिटाई कर दी थी और उसके पोस्टर को फाड़ दिया था। इस मामले पर टिप्पणी करते हुए घोष ने कहा था, ”उस लड़की को अपने भाग्य के सितारों का धन्यवाद देना चाहिए जो उसका केवल पोस्टर फाड़ा गया, उसके साथ कुछ नहीं किया गया।”

छात्रा ने पाटुली थाने में शिकायत में कहा, हमारे देश में महिलाएं सुरक्षित नहीं हैं। भारत में हर 22 मिनट में एक महिला का बलात्कार होता है। मैं घोष की टिप्पणी से हैरान नहीं हूं। मामले में सीपीआई के वरिष्ठ नेता शमिक लाहिरी ने घोष के बयान की निंदा करते हुए कहा कि उन्हें ऐसे बयानों से बचना चाहिए। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मनोज चक्रवर्ती ने कहा कि घोष को सार्वजनिक रूप से माफी मांगनी चाहिए।

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से बताया गया है कि घोष पर आईपीसी की धारा 354A(सेक्सुअल हैराशमेंट), धारा 509 (इंसल्ट टू मॉडेस्टी ऑफ वीमेन), धारा 506 (क्रिमिनल इंटिमिडेशन) और धारा 34 (कॉमन इंटेशन) के तहत मामला दर्ज किया गया है।

हालांकि घोष का कहना है कि ‘क्यों प्रदर्शनकारी (सीएए) हमेशा हमारी रैली में प्रदर्शन करने चले आते हैं? क्या वे अन्य कार्यक्रमों में नहीं जा सकते? हमने बहुत सहन किया लेकिन अब ऐसी हरकतों को सहन नहीं करेंगे।’

विज्ञापन