hadi14

धर्म परिवर्तन कर मुस्लिम युवक से शादी करने के बाद कई मुसीबतों का सामना करने वाली हादिया ने कहा कि यह सारा विवाद उनके इस्लाम धर्म अपनाने के चलते हुआ. बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने केरल हाईकोर्ट के फैसले को रद्द करते हुए उसकी शादी को बहाल कर दिया. सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले के बाद हादिया अब अपने पति शफी के साथ रह सकेंगी.

शनिवार को अपने पति से मिलने कोझिकोड पहुंची हादिया ने कहा, ‘संविधान हमें अपना धर्म चुनने की आजादी देता है, जो सभी नागरिकों का बुनियादी अधिकार है. यह सारा विवाद इसलिए हुआ, क्योंकि मैंने इस्लाम अपना लिया था.’

हादिया ने कहा, ‘सुप्रीम कोर्ट के निकाह को बरकरार रखने के बाद हम ऐसा महसूस कर रहे हैं जैसे हमें स्वतंत्रता मिल गई हो. यह केवल पीएफआई थी, जिसने हमारे कठिन समय में हमारी मदद की. जो बात आश्चर्यजनक थी, वह यह कि दो मुस्लिम संगठनों ने हमारी मदद करने से इनकार कर दिया.’

kerala love jihad

ध्यान रहे जनवरी 2016 में इस्लाम अपनाने के बाद मुस्लिम युवक शफीन जहां से शादी कर ली थी.  लेकिन हिन्दू संगठनों की और से जबरन धर्मांतरण का आरोप लगाने के बाद उनकी शादी विवादों में आ गई थी. हादिया के पिता केएम अशोकन की याचिका पर सुनवाई करते हुए केरल हाई कोर्ट ने हादिया और शफीन जहां की शादी को खारिज कर दिया था.

जिसके बाद केरल हाई कोर्ट के इस फैसले के हादिया के पति शफीन जहां ने सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी. सुप्रीम कोर्ट ने हादिया की गवाही को अहम् मानते हुए कोर्ट ने कहा कि हादिया की शादी को रद्द करने का फैसला पूरी तरह गलत था. कोर्ट ने कहा कि हादिया अपनी पढ़ाई जारी रख सकती हैं और जो वह चाहती हैं कर सकती हैं.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?