Monday, August 2, 2021

 

 

 

लॉकडाउन हटाने को लेकर बोला डबल्यूएचओ – भारत में कोरोना विस्फोट नहीं लेकिन बना हुआ है खतरा

- Advertisement -
- Advertisement -

भारत में तेजी से बढ़ते कोरोना वायरस के मामलों के बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के एक प्रमुख विशेषज्ञ ने कहा है कि भारत में कोरोना महामारी को लेकर स्थिति अभी ‘विस्फोटक’ नहीं है, लेकिन देश में मार्च में लागू पूर्णबंदी हटाने की तरफ बढ़ने के साथ इस तरह का जोखिम बना हुआ है।

डब्ल्यूएचओ के स्वास्थ्य आपातकालीन कार्यक्रम के कार्यकारी निदेशक माइकल रेयान ने अपने बयान में कहा, भारत सरकार ने मार्च में लॉकडाउन का बहुत अच्छा फैसला किया था लेकिन जब से उस में ढील दी गई है, जिससे मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। रेयान के मुताबिक, अच्छी बात यह है कि भारत में अभी कोरोना वायरस की स्थिति कंट्रोल में है। भारत में शहरों और गांवों में इसके विस्तार की दर अलग-अलग देखने को मिल रही है।

रेयान के मुताबिक, दक्षिण एशिया में कोरोना वायरस को लेकर के स्थिति नियंत्रण में कही जा सकती है। भारत ही नहीं, घनी आबादी वाले पाकिस्तान और बांग्लादेश में भी अभी विस्फोटक स्थिति नहीं है। हालांकि इन देशों में भी खतरा बना हुआ है। इसे रोकने का सबसे सरल उपाय लॉकडाउन ही है जिसमें कम से कम ढील दी जानी चाहिए।

भारत कोविड-19 महामारी के मामले में इटली को पीछे छोड़कर दुनिया का छठा सबसे बुरी तरह प्रभावित देश बन गया है। इसके बाद देश में अब तक संक्रमण के कुल मामलों की संख्या 2,36,657 हो गई है तथा मर’ने वालों का आंकड़ा 6,642 पर पहुंच गया है।

वहीं विश्व स्वास्थ्य संगठन की मुख्य विज्ञानी सौम्या स्वामीनाथन का कहना है कि भारत की आबादी 1.3 अरब है। ऐसे में अभी तक सवा दो लाख केस सामने आना कोई गंभीर स्थिति नहीं है। उन्होंने सलाह दी कि भारत सरकार को स्थिति पर नजर रखनी चाहिए और कोशिश करनी चाहिए कि हालात बेकाबू ना हो। विश्व संगठन से पहले भी भारत सरकार के प्रयासों की तारीफ कर चुका है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles