नई दिल्ली | लोकतंत्र के चौथे स्तम्भ के रूप में जाना जाने वाला मीडिया, लोगो के बीच में अपनी विश्वसनीयता खोता जा रहा है. एंकर से लेकर पूरा चैनल, किसी न किसी राजनितिक पार्टी की विचारधारा से प्रभावित लगता है. हालाँकि यह कहना भी गलत नही होगा की मीडिया एक बाजार की तरह काम कर रहा है और राजनितिक पार्टिया इनकी ग्राहक. अपने फायदे के लिए राजनितिक पार्टिया मीडिया का उपयोग करती है और मीडिया , इन पार्टियों का.

न्यूज़ चैनल देखते समय स्पष्ट तौर पर बताया जा सकता है की यह मीडिया ग्रुप किस पार्टी की विचारधारा के प्रभावित है. फ़िलहाल न्यूज़ चैनल भी दो धडो में बंट चूका है, एक मोदी सरकार और उसके एजेंडा के पक्ष में दूसरा मोदी सरकार के विपक्ष में. चुनाव के समय राजनीतीक पार्टिया इन चैनल का बखूबी इस्तेमाल करती है. कभी स्टूडियो ओडीयंस के जरिये तो कभी सर्वो के माध्यम से अपने पक्ष में माहौल बनाने का काम किया जाता है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

हाल ही में news18 के एक कार्यक्रम ‘सबसे बड़ा दंगल’ में यह बात साबित होती भी दिखी. दरअसल यह कार्यक्रम उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनावो के ऊपर किया गया था. इस कार्यक्रम में बीजेपी और बसपा के प्रवक्ताओ ने हिस्सा लिया. जबकि सपा के प्रवक्ता इसमें नही पहुंचे. कार्यक्रम को सुमित अवस्थी संचालित कर रहे थे. इस दौरान उन्होंने स्टूडियो में बैठी जनता से पुछा की इस बार यूपी में बीजेपी की सरकार बनेगी , यह कितने लोग मानते है?

इसके जवाब में करीब आधी जनता ने हाथ उठाया. जब उन्होंने पुछा की कितने लोग मानते है की इस बार भी अखिलेश की सरकार बनेगी तो भी करीब आधे लोगो ने हाथ उठाया. जब सुमित ने बसपा की सरकार के बारे में पुछा तो किसी ने अपना हाथ नही उठाया. जनता के इस रिएक्शन पर सुमित ने बसपा प्रवक्ता सुधीन्द्र भदोरिया से व्यंग भरे लहजे में कहा,’ देख रहे है.. एक भी व्यक्ति नही कह रहा की आपकी सरकार बनेगी’.

इस पर प्रतिक्रिया देते हुए भदोरिया ने माइक उठाकर जनता से पुछा की आपमें से कितने लोग दलित है , हाथ उठाईये. चौकाने वाली बात यह है की एक भी व्यक्ति ने हाथ नही उठाया, जो यह साबित करता है की स्टूडियो में भी अपने पक्ष की जनता को बुलाया जाता है जहाँ समाज के सभी वर्गों को जगह नही दी जाती. भदोरिया के इस जवाब से तिलमिलाते हुए सुमित ने कहा की यह कैसा सवाल है और फिर कार्यक्रम को खत्म कर दिया गया.

देखे विडियो

 

Loading...