लखनऊ एनकाउंटर में मारे गए सैफुल्ला के पिता ने उसकी लाश लेने से इनकार कर दिया हैं. उन्होंने उसे देशद्रोही करार देते हुए कहा कि नही वे उसकी लाश लेंगे और नहीं उसे दफनायेंगे.

सैफुल्ला के पिता सरताज ने कहा कि ये देश हित में नहीं था, हम उससे नाराज हैं, ऐसे देशद्रोही की लाश नहीं लेंगे. उन्होंने कहा,  ‘कुछ महीनों पहले उसने घर छोड़ दिया था क्योंकि मैंने उसको कुछ काम ना करने के लिए पीटा था, पिछले सोमवार को उसका फोन आया था कि वह सउदी जा रहा है.

परिवार के मुताबिक-सैफुल्ला सऊदी अरब का वीजा लेने के लिए मुम्बई गया हुआ था. करीब 2 या ढाई महीने से परिवार से कोई बात नहीं हुई थी. सैफुल्ला बी कॉम करने के बाद अकाउंटेंट का काम कर रहा था. सैफुल्ला के पिता सरताज जाजमऊ में Tannery में सुपरवाइजर हैं सरताज के तीन बच्चे हैं. दो लड़के सैफुल्ला और खालिद और एक लड़की. सरताज के बड़े भाई मोहम्मद नसीम हैं. ये रिटायर्ड टीचर हैं. इनके दो बेटे फैसल और इमरान हैं.

सैफुल्लाह के बारें में कहा जा रहा हैं कि उसके निशाने पर बाराबंकी के पास देवा शरीफ में स्थित हाजी वारिस अली शाह की दरगाह थी, जिसे निशाना बनाने के लिए उसने गोला बारूद जमा कर रखा था. इसका इरादा दरगाह पर सीरियल ब्लास्ट करना था जिसके लिए उसने 27 मार्च की तारीख निश्चित की हुई थी. इस बात का उसके लैपटॉप से हुआ हैं. उसके लैपटॉप से कुछ जिहाद से सम्बंधित विडियो मिले है जिनमे पाकिस्तान की दरगाहों पर ब्लास्ट होते दिखाया गया है.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?