आचार संहिता उल्लंघन के एक लंबित मुकदमे में केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी और भदोही के सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त के खिलाफ कोर्ट में उपस्थित नहीं होने पर जमानती वारंट जारी हुआ है। यह मामला आचार संहिता के उल्लंघन के एक मामले में जुड़ा है।

शनिवार को प्रकरण स्पेशल कोर्ट (एमपी/एमएलए) में सुनवाई के लिए नियत था। इसमें केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी और भदोई के सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त को शनिवार को हाज़िर होना था लेकिन दोनों ही नदारद रहे और हाजिर नहीं हुए।

दोनों नेताओं के कोर्ट में उपस्थित नहीं होने पर कोर्ट ने ज़मानती वारंट जारी किया है। मामले में अगली सुनवाई 18 दिसंबर को होगी। बता दें कि यह पूरा प्रकरण भदोही के सुरियांवा थाने का है। वादी अजय विक्रम और जंगीलाल मौर्य कार्यकारी मजिस्ट्रेट ने रिपोर्ट दर्ज कराई थी।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

भाजपा प्रत्याशी वीरेंद्र सिंह मस्त के समर्थन में सुरियांवा के राजेश सिंह के बाग में 28 अप्रैल 2014 को चुनावी सभा थी। इसके लिए प्रशासन ने शाम पांच बजे तक की ही अनुमति दी थी।

आरोप के मुताबिक नितिन गडकरी ने पांच बजे बाद वहां पहुंचकर जनसभा को संबोधित किया और मतदान की अपील की थी। यह मामला 2014 से प्रकरण स्पेशल कोर्ट (एमपी/एमएलए) में लंबित है।

Loading...