नक़वी का बड़ा फैसला – वक्फ संपत्तियों की होगी टैगिंग और डिजिटाइजेशन, 5 करोड़ छात्रों को मिलेगी स्कॉलरशिप

4:45 pm Published by:-Hindi News

अल्पसंख्यक मामलों के केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने केंद्रीय वक्फ परिषद की बैठक में बोर्ड की संपत्तियों की 100 प्रतिशत जियो टैगिंग और डिजिटाइजेशन के लिए युद्धस्तर पर अभियान शुरू करने के आदेश दिए। ताकि वक्फ सम्पत्तियों का उपयोग मुस्लिम समाज के सामाजिक कार्यों में किया जा सके।

साथ ही उन्होने बताया कि केंद्र सरकार अगले 5 साल में अल्पसंख्यक समुदाय के 5 करोड़ छात्रों को छात्रवृत्ति देगी। इनमें 50% लड़कियां शामिल होंगी। उन्होंने कहा कि मदरसों के छात्रों को भी कम्प्यूटर और विज्ञान जैसे विषयों की शिक्षा सुनिश्चित की जाएगी। इसके लिए अगले महीने से मदरसा प्रोग्राम शुरू किया जाएगा।

केंद्र और राज्यों की प्रशासनिक सेवाओं, बैंक सेवाओं, एसएसी, रेलवे और दूसरी प्रतिस्पर्धी परीक्षाओं के लिए मुफ्त कोचिंग की सुविधा दी जाएगी। यह सुविधा मुस्लिम, क्रिश्चियन, सिख, जैन, बौद्ध और पारसी समुदायों के आर्थिक रूप से पिछड़े छात्रों को मिलेगी।

बैठक में मुख़्तार अब्बास नकवी ने स्पष्ट किया है कि ‘प्रधानमंत्री जन विकास कार्यक्रम’ के तहत देश भर में वक्फ सम्पत्तियों पर स्कूल, कॉलेज, आईटीआई, कौशल विकास केंद्र, बहु-उदेशीय सामुदायिक केंद्र सद्भाव मंडप, हुनर हब, अस्पताल, व्यावसायिक केंद्र, कॉमन सर्विस सेंटर आदि का बड़े पैमाने पर निर्माण किया जाएगा। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी ने अल्पसंख्यकों के लिए देश के 100 जिलों तक सीमित विकास योजनाओं का विस्तार बढ़ाकर 308 जिलों में कर दिया है।

बता दें कि देशभर में लगभग 5.77 लाख रजिस्टर्ड वक्फ संपत्तियां हैं जिन्हें जियो टैगिंग और उनके रिकॉर्ड को डिजिटल किया जा रहा है.। जियो टैगिंग एवं डिजिटलाइजेशन से वक्फ संपत्तियों को पारदर्शी एवं सुरक्षित तरीके से रखा जा सकेगा।

Loading...