Friday, January 28, 2022

#CAA विरोध: हिंसक तरीके से पुलिस का अस्पतालों में घुसना स्वीकार्य नहीं: आईएमए

- Advertisement -

नई दिल्ली: संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान कुछ पुलिसकर्मियों का एक अस्पताल में घुसकर कथित तौर पर हिंसक कार्रवाई का मामला सामने आया था। इस मामले पर इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) ने चिंता जाहीर की है।

आईएमए ने ऐसी कार्रवाई को ‘‘अस्वीकार्य’’ करार देते हुए मांग की कि अस्पतालों को ‘‘सुरक्षित क्षेत्र’’ घोषित किया जाना चाहिए। आईएमए ने एक बयान में कहा, ‘‘आईएमए जिस वजह से आज प्रतिक्रिया दे रहा है, वह यह है कि चिकित्सा देखरेख से वंचित करने की चिंताजनक खबरें सामने आ रही हैं। यह अस्वीकार्य है। सभी को चिकित्सा देखरेख प्राप्त करने का हक है।’’

इसने कहा, ‘‘सरकार और उसके प्रतिष्ठान को किसी को उसके अधिकारों से वंचित करने का अधिकार नहीं है। हिंसक तरीके से पुलिसकर्मियों का एक आईसीयू में घुसने का दृश्य नए सच और नए मापदंड का स्पष्ट संकेत हैं।’’ चिकित्सकों की इस संस्था ने कहा कि अस्पताल परम-पावन होते हैं और युद्ध क्षेत्र में उन्हें हिंसा से मुक्त रखा जाता है।  आईएमए ने कहा कि अस्पतालों में हिंसा स्वीकार्य नहीं है और वह अस्पतालों को सुरक्षित क्षेत्र के रूप में रखे जाने के पक्ष में है।

बता दें कि नागरिकता कानून के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान गुरुवार को कर्नाटक के मंगलुरू में हिंसा हुई थी। इस दौरान पुलिस ने प्रदर्शन कर रहे लोगों पर गोली चलाई थी, जिसमें दो की मौत हो गई थी और कई लोग घायल हुए थे। गोली से घायल हुए लोगों को मंगलुरू के हाईलैंड हॉस्प्टिल में लाया गया था। हाईलैंड अस्पताल की ओर से बताया गया है कि पुलिस ने आकर हॉस्पिटल पर भी आंसू गैस के गोले चलाए। इतना ही नहीं प्रदर्शनकारियों को पकड़ने की बात कहकर पुलिस मरीजों के कमरों तक में घुस गई और स्टाफ के साथ बदतमीजी की गई। अस्पताल ने इसको लेकर सीसीटीवी की फुटेज भी जारी की है।

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक, हाईलैंड हॉस्पिटल के सीनियर अधिकारी ने बताया, विरोध प्रदर्शन में घायल लोगों के लाए जाने के बाद एक छोटी सी भीड़ अस्पताल के पास जमा हो गई। एहतियात के तौर पर और स्थिति को देखते हुए हमने पुलिस को सतर्क किया और सुरक्षा मांगी। हमने पुलिस को सुरक्षा के लिए बुलाया लेकिन उन्होंने आते ही अस्पताल में तीन आंसू गैस के गोले दागे। वो लोग अस्पताल के कमरों में प्रदर्शनकारियों को खोजने की बात कह मरीजों और स्टाफ को डराना धमकाना शुरू कर दिया।

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles