फतेहगढ़ | उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ को कमान मिलने के बाद पहली बड़ी वारदात घटित हुई है. फतेहगढ़ जिला जेल में कैदियों ने ख़राब खाने, दवा और जेल प्रशासन पर वसूली का आरोप लगाकर हंगामा खड़ा कर दिया. जानकारी मिली है की कैदियों ने जेल में दो बंदीरक्षको को बंधक बना लिया है , यही नही बातचीत का प्रयास कर रहे प्रभारी डीएम् और जेल अधीक्षक के ऊपर पथराव कर उन्हें भी घायल कर दिया है.

खबरों के अनुसार फतेहगढ़ जिला जेल में बंदियों ने ख़राब सुविधाए देने और वसूली करने का आरोप लगाकर बवाल मचाना शुरू कर दिया. कैदी जेल की छत पर चढ़ गए और कैदियों को मिलने वाले गद्दों और तकियों में आग लगा दी. यही नही दो बंदी रक्षको को बंदी बना लिया. सूचना मिलते ही प्रभारी जिलाधिकारी एनपी पाण्डेय और पुलिस अधीक्षक कई थानों की फाॅर्स लेकर जेल पहुंचे.

यहाँ प्रभारी डीएम् ने जेल अधीक्षक आरके वर्मा और फतेहगढ़ कोतवाली प्रभारी अनुज निगम के साथ कैदियों से बात करने का प्रयास किया लेकिन कैदियों ने उनके ऊपर पथराव करना शुरू कर दिया. जिसके वजह से एनपी पाण्डेय और आरके वर्मा और अनुज निगम के साथ साथ एक बंदीरक्षक संतोष कुमार घायल हो गए. इसके अलावा एक पोल पर चढ़ने की कोशिश कर रहा कैदी भी नीचे गिरने की वजह से घायल हो गया.

सभी घायलों को लोहिया अस्पताल में भर्ती कराया गया है. कैदी जेल के अन्दर मीडिया को नही घुसने देने से भी नाराज बताये जा रहे है. कैदियों की मांग है की वो मीडिया के सामने अपनी मांगे रखेंगे. दरअसल यह पूरा मामला एक कैदी अतुल की वजह से शुरू हुआ. अतुल काफी दिनों से जिला जेल अस्पताल में भर्ती था. रविवार को अस्पताल के डॉक्टर ने अतुल को डिस्चार्ज करने की रिपोर्ट जेल अधीक्षक को भेज दी.

जब दो बंदी रक्षक अतुल को वापिस जेल बैरक ले जा रहे थे तभी कैदियों ने उन पर हमला कर दिया. इसके बाद यह पूरा बवाल शुरू हुआ. कैदियों का आरोप है की जेल में उनको ख़राब खाना दिया जाता है और जेल प्रशासन उनसे अवैध वसूली भी करता है. फ़िलहाल स्थिति नियंत्रण में नही है और कैदी अभी भी पथराव कर रहे है. उधर प्रशासन ने कार्यवाही करते हुए जेलर को निलंबित कर दिया है.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?