vijay

लन्दन | देश के करीब 17 बैंकों का 9 हजार करोड़ रूपए लेकर लन्दन फरार हुए मशहूर उधोगपति विजय माल्या ने आज प्रधानमंत्री मोदी को ट्वीट कर सबको चौंका दिया. विजय माल्या ने एक के बाद एक कई ट्वीट कर जांच एजेंसीज पर निशाना साधा. उन्होंने मोदी से पुछा की क्या आप गारंटी लेते है की आपकी जांच एजेंसीज निष्पक्ष और कानून के दायरे में रहकर जांच करेगी.

करीब 9 हजार करोड़ रूपए के लोन में डिफाल्टर विजय माल्या ने पहले ट्वीट में लिखा, ‘करप्शन पर सख्त रवैया रखने वाले हमारे डायनमिक पीएम क्या अपनी क्रिमिनल एजेंसीज की सही, निष्पक्ष और कानूनी तरीके से जांच की गारंटी देंगे’? दरअसल विजय माल्या का इशारा प्रवर्तन निदेशालय की और था. मालूम हो की प्रवर्तन निदेशालय ने ही स्पेशल कोर्ट में अर्जी देकर विजय माल्या को भगौड़ा घोषित कराया था.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

अपने दुसरे ट्वीट में विजय माल्या ने कहा की हमारे सम्मानीय प्रधानमंत्री टेक्नोलॉजी के इस्तेमाल और किसानो के बारे में खूब बोलते है लेकिन पता नही क्यों प्रवर्तन निदेशालय ने टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करने से इनकार कर दिया. अपने अगले ट्वीट में विजय माल्या ने भारतीय मीडिया पर निशाना साधा. माल्या ने लिखा की यह अफ़सोस की बात है की सही, निष्पक्ष और क़ानूनी तरीको से जांच की अपील को, हेडलाइंस के भूखे मीडिया ने गलत ढंग से पेश किया.

गौतलब है की किंगफ़िशर एयरलाइन के मालिक विजय माल्या फ़िलहाल लन्दन में रह रहे है. विजय माल्या के खिलाफ भारतीय अदालत ने गैर जमानती वारंट भी जारी किये हुए है. लेकिन भारत सरकार विजय माल्या को वापिस स्वदेश लाने में असफल रही है. माल्या को ब्रिटेन की नागरिक हासिल है जिसका वो भरपूर फायदा उठा रहा है. ब्रिटेन के किसी नागरिक को भारत में प्रत्यापित करने के लिए अभी दोनों देशो के बीच कोई संधि नही हुई है. इससे पहले मई 2016 में विजय माल्या को भारत डिपोर्ट करने के भारतीय अनुरोध को ब्रिटेन सरकार ठुकरा चुकी है.

Loading...