पाकिस्तानी मूल के लेखक तारिक फतेह के जी न्यूज़ पर प्रसारित हो रहे टीवी शो ‘फतेह का फतवा’ में उनकी इस्लाम धर्म के खिलाफ की जा रही बयानबाज़ी के कारण उनकी लगातार मुश्किलें बढ़ती ही जा रही हैं. हाल ही में दिल्ली में हुए उर्दू महोत्सव जश्ने रेख्र्ता में उनके साथ हाथापाई की गई, जिसके बाद उन्हें महोत्सव छोड़कर उलटे पाँव भागना पड़ा.

दूसरी तरफ उनके और उनके शो के खिलाफ दिल्ली हाईकोर्ट में याचिका दायर की हुई हैं. जिसमे उनके शो के एपिसोड्स पर तत्काल प्रभाव से रोक लगाने की मांग की गई हैं. इस याचिका पर चीफ जस्टिस जी रोहिणी और जस्टिस संगीता ढींगरा सहगल ने सरकार सहित चैनल को नोटिस जारी किया है.

इसी बीच अब  यूपी के ऑल इंडिया फैजान-ए-मदीना काउंसिल ने फतेह के सिर पर 10,786 रुपये के ईनाम का ऐलान किया हैं. ऑल इण्डिया फैजान-ए-मदीना काउन्सिल के अध्यक्ष मुईन सिद्दीकी नूरी की एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है जिसमें वह कह रहे हैं कि 18 फ़रवरी को इस प्रोग्राम में जुम्मे की नमाज में पढ़े जाने वाले खुतबा को नाजायज बताया गया. इसके बाद हमारे संगठन ने फैसला लिया है कि उन्हें देश से निकाल देना चाहिए.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

फतह को इजराइल का एजेंट बताते हुए उन्होंने कहा कि भारत सरकार ने उन्हें बेवजह पनाह दे रखी है. फतह ने हमेशा इस्लाम धर्म को ठेस पहुंचाई हैं और देश में सांप्रदायिक माहौल पैदा करने की कोशिश की है. इसलिए उनके संगठन ने तारिक फतह का सर कलम करने वाले को 10,00,786 रुपये देने का ऐलान किया है.

Loading...