अलीगढ | उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ की सरकार बनने के बाद पुरे प्रदेश में अवैध बूचडखानो के ऊपर कार्यवाही की जा रही है. अभी तक 300 से ज्यादा अवैध बूचडखाने बंद कराये जा चुके है. उधर सरकार के आदेश के खिलाफ मीट व्यापारी प्रदेश व्यापी हड़ताल पर चले गए है. ऐसे में पुरे प्रदेश में मीट की भारी कमी हो गयी है. जिसका असर न केवल उत्तर प्रदेश बल्कि दिल्ली में दिखाई दे रहा है.

अवैध बूचडखाने बंद होने और मीट व्यापारियों की हड़ताल की वजह से अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटी भी परेशान है. यहाँ छात्रों को रोजाना खाने में मीट परोसा जाता है. लेकिन मीट की कमी होने के बाद इन्हें भी अपना मेनू बदलना पड़ा है. करीब एक हफ्ते से विधार्थियों को खाने में शाकाहारी भोजन दिया जा रहा है. इसी बात को लेकर विधार्थियों ने खूब हंगामा काटा.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

मेनू में शाकाहारी भोजन परोसने से नाराज चल रहे छात्रों ने यूनिवर्सिटी के वीसी को पत्र लिखकर हस्तक्षेप करने की मांग की है. छात्रों की मांग के बावजूद यूनिवर्सिटी प्रशासन ने हाथ खड़े करते हुए कहा की रोजाना 500 किलो भेंसे के मीट का इंतजाम करना संभव नही है. वीसी जमीरुद्दीन शाह ने कहा की सरकार के आदेश के बाद सभी अवैध बूचडखाने बंद हो गए है और हड़ताल की वजह से अलीगढ की सारी मीट दुकाने भी बंद है. ऐसे में छात्रों की मांग पूरी नही की जा सकती.

अलीगढ यूनिवर्सिटी में करीब 19 मेस है और हर मेस में 5 से 7 हॉस्टल के छात्रों का खाना बनता है. इसके अलावा छात्रों को शुक्रवार छोड़कर रोजाना भेंसे का मीट परोसा जाता है. जबकि शुक्रवार को चिकेन दिया जाता है. यूनिवर्सिटी में शाकाहारी भोजन परोसे जाने को लेकर असुदुद्दीन ओवैसी ने बीजेपी पर निशाना साधा है. उन्होंने ट्वीट किया की अलीगढ यूनिवर्सिटी में 15 हजार छात्रों को 26 मार्च से मीट नही दिया जा रहा है. इसके बाद भी बीजेपी कह रही है की वो किसी को निशाना नही बना रहे है.

Loading...