सौजन्य से : ANI
सौजन्य से : ANI

देहरादून | उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में प्रचंड बहुमत के साथ सत्ता में आई बीजेपी का पिछले कुछ दिनों से ‘वन्देमातरम’ के प्रति लगाव कुछ ज्यादा ही दिखाई देने लगा है. अभी हाल ही में उत्तर प्रदेश में कुछ ऐसी घटनाएं घटित हुई है जो इसकी और साफ़ इशारा करती है. अब उत्तराखंड में भी इसका असर दिखना लगा है. उत्तराखंड सरकार में उच्च शिक्षा मंत्री ने बयान दिया है की अगर उत्तराखंड में रहना है तो वन्देमातरम कहना होगा.

बुधवार को रूडकी में आयोजित एक कार्यक्रम में बोलते हुए उच्च शिक्षा मंत्री धन सिंह रावत ने कहा की राज्य के कॉलेज, स्कूल और विश्वविधालयो में राष्ट्रगान और राष्ट्रगीत गाना अनिवार्य किया जाएगा. इसके अलावा सभी स्नातक और परास्नातक छात्रों के लिए ड्रेस कोड भी निर्धारित किया जायेगा. वही कांग्रेस ने धन सिंह रावत के बयान की आलोचना करते हुए कहा की उनके पास विकास के लिए कोई विजन नही है.

धन सिंह ने कहा की सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूल, कॉलेजों में राष्ट्रगान और राष्ट्रगीत अनिवार्य होगा. दोनों के लिए समय निर्धारित किया जायेगा. सुबह 10 बजे राष्ट्रगीत जबकि शाम 4 बजे राष्ट्रगान गाया जायेगा. इस दौरान उन्होंने धमकी भरे लहजे में कहा की अगर उत्तराखंड में रहना है तो वन्देमातरम कहना होगा. मंत्री जी के ब्यान पर प्रतिक्रिया देते हुए कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ने कहा की सरकार शिक्षा के स्तर में सुधार करने की बजाय कपडे निर्धारित करने में लगी हुई है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

उन्होंने आरोप लगाया की बीजेपी सरकार के पास राज्य के विकास के लिए कोई विजन नही है इसलिए यह सब बाते कही जा रही है. बताते चले की उत्तर प्रदेश की मेरठ नगर पालिका में बीजेपी पार्षदों ने वन्देमातरम कहना अनिवार्य कर दिया है, जिस पर काफी बवाल भी हुआ है. वही मेरठ की देखा देखी वाराणसी और गोरखपुर नगर पालिका में भी वन्देमातरम को अनिवार्य किया गया है.

Loading...